नालियां की साफ सफाई नही होने से बदबू से परेशान है वार्डवासी

Scn news india

दिलीप पाल
आमला. नगर में स्वचछता का दावा खोखला साबित हो रहा है। प्रशासनिक अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों की निष्क्रियता के चलते शहर में चारों ओर गंदगी फैली हुई है। शहर के 18 वार्डो में ऐसा कोई वार्ड नहीं है जहां कचरा नहीं फैला हो। नियमित

साफ-सफाई की ओर किसी का ध्यान नहीं है।

नगर के वार्ड क्रमांक 14 में पानी निकासी के लिए नाली बनाई गई है। किन्तु पानी की निकासी नाली से न होकर गलियों से हो रहा है। इससे वार्डवासियों को आने-जाने में परेशानी हो रही है। पालिका प्रशासन के कर्मचारी सफाई में लापरवाही बरत रहे हैं। नालियों से बदबू उठने लगी है। नालियों की साफ-सफाई सही तरीके से नहीं किया गया तो बारिश में बीमारी फैल सकती है। जिसके कारण लोग बीमार हो रहे है

वार्ड-14 के निवासी रामानंद बेले का कहना है कि नाली की साफ-सफाई प्रतिदिन नहीं की जा रही है। जिससे नाली पूूरी तरह भर जाता है और नाली का पानी सड़क पर बहने लगता है। गंदे पानी को दिशा देने के लिए नाली को काटकर एक छोटा नाली बना देते हैं। सड़क का पानी अन्यत्र चला जाए और आने-जाने में परेशानी न हो। वार्ड के गोपाल चौकीकर ने बताया कि पहले हफ्ते में एक बार सफाई करने वाले आते थे। अब दो हफ्ते में एक बार आते हैं। कर्मचारी कीचड़ निकालने के बाद गंदगी को बाहर फेंकने के बजाय नाली के बगल में ही छोड़ देते हैं। इससे बदबू फैली रही है। नालियों की समय पर सफाई नहीं होेने के कारण खुद का पैसा देकर साफ करवाते हैं।

बारिश में घर से निकलना होगा मुश्किल

वार्ड-14 में सुनील पाटिल ने बताया कि घर के ठीक दरवाजे के पास से नाली गई हैं। नाली की सफाई प्रतिदिन नहीं होती 15 से 20 दिन लग जाता है। कभी कभी तो एक महीने तक सफाई नहीं होती। बारिश होने पर पानी नाली से बाहर आ जाता है। पानी घुटने तक भर जाता है। इससे बारिश में घर से निकलना मुश्किल हो जाता है।

नपा के कर्मचारी केवल दिखावा ही कर रहे

वार्ड- प्रकाश, संजय आदि ने बताया कि नाली पर पत्थर भी नहीं लगाया गया है। यहां से गुजरने वालों को परेशानी हो रही है। वार्डवासी नालियों से कूदकर आना-जाना कर रहे हैं। वार्ड के लोगो ने कहा कि सफाई केवल दिखावा है। सफाई के नाम पर केवल ऊपर का ही कचरा निकालकर फेंक देते हैं। नीचे तक सफाई नहीं की जा रही है। इससे नाली जाम हो रहा है।