कोरोना काल में प्राइवेट एम्बुलेंस बालों की लूट खसोट जारी,बीच रास्ते में मरीज की ऑक्सीजन बंद कर वसूलते हैं पैसे

Scn news india

दमोह से रविकांत बिदौल्या की  रिपोर्ट 

कोरोना संक्रमण के भयानक दौर में प्राइवेट एंबुलेंस वालों की लूट खसोट लगातार जारी है इसकी बानगी दमोह में देखने को मिली शनिवार की रात दमोह के सिटी हॉस्पिटल में दाखिल दीनदयाल पाठक की तबीयत अचानक बिगड़ी परिजनों ने एक प्राइवेट एंबुलेंस की एंबुलेंस वाला जाने को तैयार नहीं था 15 हजार रुपे मैं बात हुई जबकि दमोह से लेकर जबलपुर तक महज 80 किलोमीटर का सफर है और 3000 अधिकतम में कोई भी एंबुलेंस जा सकती है लेकिन एंबुलेंस द्वारा 15 हज़ार में बात तय की गई और फिर आधे रास्ते में मरीज को ले जाकर एंबुलेंस खड़ी कर ली ऑक्सीजन बंद कर दी और पैसे वसूले गए परिजनों ने 15 रुपये दे दिए मेडिकल कॉलेज पहुंचने के बाद पता चला कि वहां जगह नहीं है तो वे जबलपुर हॉस्पिटल जाने की बात कहने लगे एंबुलेंस वाले ने फिर एंबुलेंस खड़ी कर ली और ₹2000 वसूले तब जाकर जबलपुर हॉस्पिटल पहुचे मरीज का सिटी स्कैन कराने की बात आई एंबुलेंस चलकक द्वारा एक हज़ार की मांग की गई परिजनों ने आनन-फानन में एक हजार और दिए और मरीज का सीटी स्कैन कराया लेकिन इतने पर भी एंबुलेंस वाले का जी नहीं भरा और हॉस्पिटल छोड़ने से पहले एक हजार की मांग और कर डाली परेशान हाल मरीज के परिजनों ने पैसे जुटाकर एंबुलेंस वाले को दिए तब जाकर मरीज अस्पताल में दाखिल हो पाया परिजनों द्वारा अवैध वसूली का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल किया गया है वहीं मीडिया के सामने आकर मरीज के परिजन चतुर्भुज दुवे ने पूरी कहानी सुनाई और इस तरह के एंबुलेंस वाले के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की बात कही ऐसे में देखने लायक बात यह होगी कि प्रशासन तक यह खबर पहुंचने के बाद एंबुलेंस वाले के खिलाफ क्या कार्रवाई की जाती है