केंद्र -राज्य सरकारों के साथ अब चुनाव आयोग भी लपेटेमे, कोर्ट ने लगाई फटकार

Scn news india

मनोहर

देश में कोरोना के बिगड़ते हालात के बीच अब सुप्रीम कोर्ट  के साथ हाई कोर्ट भी सख्त हो गई है। सुप्रीम कोर्ट ने जहाँ आक्सीजन की कमी पर केंद्र सरकार को फटकार लगाई और समुचित व्यवस्था के निर्देश दिए तो वही  मध्यप्रदेश के आक्सीजन टेंकर को यूपी में रोके जाने से यूपी सरकार को कड़ी फटकार लगा दुबारा ऐसी हरकत ना करने की सलाह दी है।

इन सभी के बीच अब चुनाव आयोग भी लपेटेमे है  मद्रास हाईकोर्ट ने सोमवार को चुनाव आयोग को कड़ी फटकार लगाई है। चीफ जस्टिस ने तो यह तक कह दिया कि कोरोना की दूसरी लहर के लिए चुनाव आयोग जिम्मेदार है। उन्होंने आयोग को चेतावनी दी कि 2 मई को काउंटिंग के दिन के लिए कोविड प्रोटोकॉल बनाए जाएं और उनका पालन हो। ऐसा नहीं हुआ तो हम काउंटिंग शेड्यूल को रोकने पर मजबूर हो जाएंगे।

दरअसल, मद्रास हाईकोर्ट तमिलनाडु की करूर विधानसभा सीट पर होने वाली काउंटिंग को लेकर दायर पिटीशन पर सुनवाई कर रहा था। पिटीशन में मांग की गई है कि इस विधानसभा सीट पर 77 उम्मीदवार मैदान में हैं, इसलिए 2 मई को काउंटिंग के दिन यहां कोविड प्रोटोकॉल का पालन होना चाहिए। वहीँ सुनवाई के दौरान चीफ जस्टस सनिब बैनर्जी नाराज हो गए। उन्होंने चुनाव आयोग से पूछा, ‘‘जब चुनावी रैलियां हो रही थीं, तब आप दूसरे ग्रह पर थे क्या? रैलियों के दौरान टूट रहे कोविड प्रोटोकॉल को आपने नहीं रोका। बिना सोशल डिस्टेंसिंग के चुनावी रैलियां होती रहीं। आज के हालात के लिए आपकी संस्था ही जिम्मेदार है। कोरोना की दूसरी लहर के लिए आप जिम्मेदार हैं। चुनाव आयोग के अफसरों पर तो संभवत: हत्या का मुकदमा चलना चाहिए।’’ इस मामले में अगली सुनवाई 30 अप्रैल को होगी।