कोरोना संक्रमित हर रोगी को तत्काल उपचार की सुविधा दें – पूर्व मंत्री राजेन्द्र शुक्ला

Scn news india

व्यवस्थायें अधिक कारगर बनाने के लिये समन्वय से प्रयास करें – पूर्व मंत्री राजेन्द्र शुक्ला
कामता तिवारी
संभागीय ब्यूरो रीवा
Scn news india

रीवा – मेडिकल कालेज सभागार में आयोजित बैठक में पूर्व मंत्री एवं विधायक रीवा राजेन्द्र शुक्ल ने संजय गांधी हास्पिटल में कोविड रोगियों के उपचार के लिये की गई व्यवस्थाओं की समीक्षा की। पूर्व मंत्री ने कहा कि कोरोना संक्रमित रोगी के हास्पिटल पहुंचते ही तत्काल उसे अटेण्ड कर स्थिति के अनुसार भर्ती करें। उसका उपचार तत्काल शुरू करा दें। हर भर्ती रोगी की लगातार मॉनीटरिंग करें। संजय गांधी हास्पिटल की व्यवस्थायें अधिक कारगर बनाने के लिये डीन तथा अधीक्षक समन्वय से प्रयास करें। कोरोना रोगियों के उपचार के लिये संसाधनों की कोई कमी नहीं है। हास्पिटल में तीन शिफ्टों में 30 डॉक्टर तथा सहयोगी मेडिकल स्टॉफ तैनात किया गया है। डीन डॉ. मनोज इंदुलकर, अधीक्षक डॉ. एसडी गर्ग तथा चिकित्सा विशेषज्ञ डॉ. नरेश बजाज अलग-अलग शिफ्टों में डॉक्टरों की तैनाती तथा उपचार व्यवस्थाओं में समन्वय का कार्य करें।
पूर्व मंत्री श्री शुक्ल ने कहा कि संजय गांधी हास्पिटल पूरे विन्ध्य क्षेत्र में श्रेष्ठ उपचार सुविधाओं का सबसे बड़ा केन्द्र है। कोरोना संकट ने इसे सर्वश्रेष्ठ हास्पिटल बनाने का अवसर दिया है। सभी सीनियर डॉक्टर तथा अधीक्षक मिलकर समन्वय से प्रयास करेंगे तो हर रोगी को उपचार की अच्छी सुविधा मिल जायेगी। व्यवस्थायें बेहतर होने पर यहां आने वाला रोगी ही आप सबकी तारीफ करेगा। अभी जो फोन कठिनाईयों के लिये आते हैं उनके स्थान पर धन्यवाद और आभार के फोन आयेंगे। जो व्यवस्थायें बनाई गई हैं उनमें ऐसा कर पाना बिल्कुल संभव है। सीनियर डॉक्टर अपने जूनियर डॉक्टरों नर्सों एवं वार्ड ब्वायों को प्रेरित करें। समर्पण भाव से रोगियों की सेवा करें। तभी हम इस कोरोना संकट में रोगियों की सच्ची सेवा कर पायेंगे।
बैठक में कलेक्टर डॉ. इलैयाराजा टी ने कहा कि संजय गांधी हास्पिटल में वेंटिलेटर वाले बेडों की संख्या 71 की गई है। कुल बेडों की संख्या 683 है। इनमें अतिरिक्त 180 बेड उपलब्ध कराने के प्रयास किये जा रहे हैं। हास्पिटल में ऑक्सीजन की नियमित आपूर्ति के लिये भी लगातार प्रयास किये जा रहे हैं। मेडिकल कालेज के डीन तथा अधीक्षक मिलकर हास्पिटल के सभी बेडों में केवल गंभीर रोगियों की भर्ती तथा सीनियर डॉक्टरों सहित अन्य डॉक्टरों से रोगियों के समय पर उपचार की व्यवस्था करायें। अगले कुछ दिनों तक रोगियों की संख्या बढ़ सकती है। हमें हर परिस्थिति में हर रोगी के उपचार के लिये पूरी तरह से तैयार रहना चाहिए। मेडिकल कालेज तथा हास्पिटल में उपलब्ध संसाधनों का अधिकतम उपयोग करके हम हर रोगी को उपचार सुविधा उपलब्ध करायेंगे। बैठक में ऑक्सीजन की आपूर्ति, वार्ड ब्वायॅ तथा नर्सों की भर्ती एवं अन्य उपचार सुविधाओं की समीक्षा की गई। कलेक्टर ने कहा कि अपर कलेक्टर श्रीमती इला तिवारी डॉक्टरों की ड्यूटी तथा उपलब्ध एवं भरे हुए के संबंध में सतत निगरानी करेंगी। बैठक में सभी संबंधित चिकित्सा अधिकारी तथा अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।