मेडिकल विशेषज्ञ डॉ. योगेंद्र श्रीवास्तव के सेवा से त्याग पत्र देने का मामला

Scn news india

मनोहर

भोपाल-जेपी अस्पताल में आज हुए  घटना क्रम के बाद  मेडिकल विशेषज्ञ डॉक्टर श्री योगेंद्र श्रीवास्तव द्वारा सेवा से त्याग पत्र दे दिया गया  है। आज कुछ लोगों द्वारा उनके साथ बदतमीजी की गई। जिससे दुखी होकर डॉ. श्रीवास्तव ने शासकीय सेवा  से इस्तीफा दे दिया।
इस संबंध में  सिविल सर्जन सह मुख्य अस्पताल अधीक्षक  श्री राकेश श्रीवास्तव ने  जेपी अस्पताल में हुए घटना क्रम के संबंध में पत्र लिखकर  आयुक्त स्वास्थ्य  को घटना क्रम से अवगत कराया है।
आज 10 अप्रैल 2021 को दोपहर 12.31 मिनिट पर श्री तबस्सीम शाक्य उम्र -35 निवासी कोलार भोपाल  को  सांस  की कमी के कारण जय प्रकाश चिकित्सालय भोपाल में इलाज कराने के लिये उनके परिजन लेकर आये थे।
संबंधित  मरीज का  स्वास्थ्य परीक्षण करने पर बीपी 157/109 पल्स रेट 118 ,तापमान 36 सें , आक्सीजन लेबल 32 एवं ब्लड शुगर रेंडम 223 था। मरीज की हालत अत्यधिक खराब थी। मरीज के स्थिति के संबंध में मरीज के परीजनों को वस्तुस्थिति बता दी गयी थी। मरीज के परिजनों द्वारा बताया गया कि श्री तबस्सीम शाक्य की तबियत पिछले 8-10 दिन से खराब थी। जिसका इलाज पम्पापुर में प्राइवेट क्लीनिक चलाने वाले डॉ.हक द्वारा किया जा रहा था।
मरीज की तबियत खराब होने के कारण परिजन जय प्रकाश चिकित्सालय भोपाल लेकर   आये। ड्यूटी डॉक्टर के द्वारा मरीज को आवश्यक जीवनोपयोगी दवायें देते हुये डॉ . योगेंद्र श्रीवास्तव मेडिकल विशेषज्ञ को बुलाकर मरीज का परीक्षण कराया गया। डॉ . योगेंद्र श्रीवास्तव द्वारा मरीज का परीक्षण करते हुये आवश्यक दवायें देते हुये मरीज को आक्सीजन पर रखा गया। मरीज की स्थिति निरंतर बिगडती जा रही थी। तत्संबंध में मरीज के परिजनों को भी अवगत कराया जाता रहा।
दोपहर  2.54 मिनिट पर मरीज  तबस्सीम शाक्य की मृत्यु  पर हो गयीं मरीज के परिजन के साथ आए एक व्यक्ति , डॉक्टर से बार – बार किसी व्यक्ति से बात कराना चाह  रहे थे।    परंतु डॉक्टर द्वारा बोला गया कि मरीज का इलाज कर रहे है मरीज गंभीर है बाद में बात करेंगे। कुछ समय पर कुछ बाहरी लोगों द्वारा आकर जोर – जोर से चिल्लाते हुये डॉ. योगेंद्र श्रीवास्तव से अभद्र व्यवहार एवं गाली गलौज की गयी। जिससे व्यथित होकर डॉ . श्रीवास्तव द्वारा सेवा से त्याग पत्र दे दिया गया।