मेडिकल फिटनेस प्रमाण पत्र के एवज में सरकारी डॉक्टर ने मांगी ₹17500 की रिश्वत ,लोकायुक्त ने पकड़ा

Scn news india

मंडला – सरकारी डॉक्टर  को रिश्वत लेते लोकायुक्त पुलिस ने रंगे हाथों धर दबोचा।  डॉक्टर ने सहायक प्राध्यापक से  एक्सीडेंट के बाद फिटनेस सर्टिफिकेट देने के लिए 20 हजार की मांग की थी।  जिस पर सहायक शिक्षक रामकुमार भरतिया पिता श्री इमरत लाल उम्र 35 साल निवासी ग्राम खमरिया विकासखंड मोहगांव सहायक अध्यापक प्राथमिक शाला पाखा टोला उमरिया तहसील घुघरी ने लोकायुक्त को सुचना दी। लोकायुक्त ने शिकायत पर कारवाही हेतु जाल बिछाया जिसमे रिश्वत लेते  डाक्टर रंगे हाथ गिरफ्तार किया गया।  शिक्षक ने बताया की कुछ दिनों पूर्व सड़क दुर्घटना में उनका पैर फ्रेक्चर हो गया था।  जिसके बाद उनका इलाज डॉक्टर महेंद्र कुमार तेजा आर्थोपेडिक स्पेशलिस्ट शासकीय जिला चिकित्सालय मंडला के द्वारा सरकारी अस्पताल मे किया गया।

इलाज के बाद जब ड्यूटी ज्वाइन करने हेतु शिक्षक ने अपने फिट होने का प्रमाण पत्र माँगा तो डाक्टर ने २० हजार रुपयों की मांग की। जिस पर शिक्षक ने लोकायुक्त को सुचना दे दी।  और फिर पहली किश्त की रकम 5 हजार देने का तय किया गया। शिक्षक ने जैसे ही रूपये दिए लोकायुक्त की टीम ने डाक्टर को रेंज हाथों धार दबोचा।
लोकायुक्त टीम में  उप पुलिस अधीक्षक जेपी वर्मा  ,निरीक्षक कमल सिंह उईके ,आरक्षक दिनेश दुबे ,आरक्षक अमित गावडे , आरक्षक शरद पांडे,  आरक्षक विजय सिंह बिष्ट , आरक्षक चालक राकेश कुमार विश्वकर्मा शामिल थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published.