संकरे पुल को पार करते समय झूला अंगुर से भरा आटो ग्रामीणों ने की चौड़े पुल निर्माण की मांग

Scn news india


दिलीप पाल
आमला। बेल नदी पर बने रेलवे के संकरे पुल पर अंगुर से भरा आटो झूल गया। यह तो शुक्र है कि आटो पुल से नीचे नहीं गिरा, अन्यथा बड़ा हादसा हो सकता था। हालांकि पुल जर्जर होने के कारण रेलवे ने भारी वाहनों की आवाजाही रोकने करीब 10-12 फीट की ऊंचाई पर लोहे की पटरी लगाई है। प्राप्त जानकारी के अनुसार साईं मंदिर के समीप बेल नदी पर बने रेलवे के संकरे पुल पर पांढुर्ना से अंगूर लेकर आ रहे लोडिंग ऑटो ऊपर लगे पाइप में फंस गया। इसके चलते ऑटो पुल पर झूलने लगा। जिसके चलते काफी देर तक वाहनों की आवाजाही बंद रही। बाद में लोगों की मदद से पाइप को खोलकर ऑटो को निकाला गया। इसके बाद यातायात सुचारू हो पाया। इस घटना में ऑटो में रखे कुछ कैरेट अंगूर बर्बाद हो गए। ग्रामीणों ने बताया कि पुल निर्माण को लेकर कई बार जनप्रतिनिधियों से मांग की गई, लेकिन अब तक पुल का निर्माण नहीं हो सका। पुल संकरा होने के कारण कई बार वाहनों के आवागमन के दौरान जाम लग जाता है। विगत दिनों विधायक डॉ. योगेश पंडाग्रे से बेल नदी पर पुल के चौड़ीकरण की मांग रखी थी। जिस पर विधायक डॉ. पंडाग्रे ने बजट मिलते ही पुल निर्माण का काम आरंभ होने का आश्वासन दिया है।
आधा दर्जन गांवों को जोड़ता है पुल – बेल नदी पर बना पुल आधा दर्जन गांवों को जोड़ता है। पुल के बीच में से गड्ढे होने लगे तो रेलवे ने इसकी रिपेयरिंग करवा दी और भारी वाहनों की आवाजाही रोकने के लिए एक निश्चित ऊंचाई पर रेल पटरी लगा दी। ग्रामीण दिनेश बारस्कर, धनाराम वरवडे ने बताया कि यह पुल रमली, नांदपर, देवठान, केदारखेड़ा, परसोडा, रंभाखेड़ी गांवों को आमला से जोड़ता है। ग्रामीणों ने जनप्रतिनिधियों से बेल नदी पर बने पुल का शीघ्र पुन: निर्माण किये जाने की मांग की है, ताकि भारी वाहनों के आवागमन की सुविधा लोगों को मिल पाए।