रुक्मणी विवाह की कथा सुनकर भाव विभोर हुए श्रोता -कौशलेन्द्र शास्त्री

Scn news india

शिवानगर सोनहरा में श्रीमद् भागवत कथा के आठवें दिन परम् पूज्य कौशलेंद्र कृष्ण शास्त्री जी महराज ने श्री कृष्ण और रुक्मणी के विवाह का प्रसंग सुनाया
अपने प्रवचनों में महराज जी ने बताया कि श्री कृष्ण के पास जब रुक्मणी ने संदेश भेजा था कि रुक्मणी के घरवाले इनका विवाह कहीं और करना चाहते हैं तब उन्होंने श्री कृष्ण से कहा वह श्री कृष्ण से ही विवाह करना चाहती हैं क्योंकि विश्व में उनके जैसा अन्य कोई पुरुष नहीं है,भगवान श्री कृष्ण के गुणों और उनकी सुंदरता पर मुग्ध होकर रुक्मणी ने मन ही मन निश्चय किया कि वह श्रीकृष्ण को छोड़कर किसी को भी पति के रूप में वरण नहीं करेंगी, उधर श्री कृष्ण भगवान को भी इस बात का पता लग चुका था कि रुकमणी परम रूपवती तो है ही इसके साथ साथ परम सुलक्षणा भी हैं,अपने वर्णन में उन्होंने बताया कि भीष्मक का बड़ा पुत्र रुक्मी भगवान श्री कृष्ण से शत्रुता रखता था वह अपनी बहन रुक्मणी का विवाह शिशुपाल से करना चाहता था।
जब रुकमणी ने गिरजा की पूजा करते हुए उनसे प्रार्थना की हे मा तुम सारे जगत की मां हो इसलिए मेरी भी अभिलाषा पूर्ण करो मैं श्रीकृष्ण को छोड़कर किसी अन्य पुरुष के साथ विवाह नहीं कर सकती रुक्मणी जब मंदिर से बाहर निकली तो उन्हें एक ब्राह्मण दिखाई दिया देखकर वह बहुत प्रसन्न हुई उन्हें यह समझने में बिल्कुल भी संशय नहीं रहा कि श्री कृष्ण भगवान ने ही उसके समर्पण को स्वीकार कर लिया है और श्री कृष्ण जी ने विद्युत तरंग की भांति पहुंचकर उनका हाथ थाम लिया और अपने रथ पर बिठाकर द्वारका की ओर चल पड़े ,भगवान श्री कृष्ण रुकमणी को द्वारका ले जाकर उनके साथ विधिवत विवाह किया।उन्होंने बताया कि प्रद्युम्न उन्हीं के गर्भ से उत्पन्न हुए थे जो सृष्टि में कामदेव के अवतार थे।श्री कृष्ण की पटरानीयों में रुक्मणी का सबसे अधिक महत्वपूर्ण स्थान था उनके प्रेम और उनकी भक्ति पर भगवान श्री कृष्ण मुग्ध थे ,उनके प्रेम और उनकी कई कथाएं और भी बहुत प्रेरक हैं,इस दौरान कथा में सम्मिलित लोगों ने भगवान श्री कृष्ण और रुक्मणी जी के विवाह में उपहार भेंट कर आशीर्वाद प्राप्त किया। और संगीत कलाकार करन अर्जुन झा ब्रदर्स ने अपने गीतों से सबको झूमने पर मजबूर कर दिया भक्तजनों में दिलीप मिश्रा, मनोज,संदीप, बलदेव आदि रहें ज्योतिषाचार्य पं.अतुल शास्त्री, पं हरीशंकर शुक्ल(अधिकारी), पं विजय उदय नारायण दूबे,आदि तमाम लोग उपस्थित रहे।वही श्रीमद् भागवत कथा का समापन कल होगा जिसके उपरांत 26 को सुबह 11:00 बजे से प्रभु इच्छा तक भंडारे का आयोजन भी किया जाएगा। जिसकी जानकारी आयोजक राघवेंद्र पाण्डेय ने दी

 

Live Web           TV