कटनी- प्रधानमंत्री आवास योजना में मची भ्रष्टाचार बिलहरी ग्राम पंचायत की पोल खुली

Scn news india

नवनीत गुप्ता कटनी 

केंद्र सरकार की योजना प्रधानमंत्री आवास योजना गरीब तबके के लोगो को मकान उपलब्ध करवाने हेतु सुनिश्चित कर रखा है , लेकिन जिस तरह की जमीनी हकीकत से हम आपको रूबरू करवाने जा रहे है आप यकीन करने पर मजबूर हो जाएंगे कि भरस्टाचार की पराकाष्ठा हो गई।

जिला मुख्यालय से महजब15 किलोमीटर की दूरी पर स्थित जिले की सबसे बड़ी ग्राम पँचायत बिलहरी है, जहां के जनप्रतिनिधियों की कारगुजारी से जिला प्रशासन तक हिल गया, जी हाँ आपको बता देवे की ग्राम पंचायत के सरपँच व रोजगार सहायक ही नही जनपद तक आरोप भरस्टाचार का लगाया जा रहा है।

ग्राम पंचायत के उप सरपंच ने दावा किया है कि प्रधानमंत्री आवास योजना के हितग्राहियों के आवास योजना में नाम आनेन्केव उपरांत उन्हें न राशि मिली न मकान, बात इतनी ही नही है यहाँ के निवासी परमी बाई और द्रोपदी बाई इन दोनों का देहांत हो गया उसके बाद भी आवास योजना की राशि ग्राम ग्राम पंचायत के द्वारा निकाल ली और रिकार्ड में बकायदा दर्ज भी करा दिया गया है कि आवास कम्पलीट है।जबकि परमी बाई व द्रोपदी बाई इस दुनिया से विदा हो चुकी उसके बाद ग्राम पंचायत की कलाकारी आवास योजना का लाभ दर्शा कर आवास की राशि हड़प ली गई।

वहीँ एक हितग्राही मुन्नी बाई है जिसका मकान गिर चुका है और उसके मकान की बनवाने के बजाय उसके मकान की किश्तों की बन्दरबाट किया जा चुका है, जब ग्राम पंचायत के उपसरपंच से बात की गई तो पूरी कहानी किसी अजूबे से कम नही नजर आई, जहां मृतकों के मरने उपरांत आवास का लाभ दिलवाया गया और राशि आहरण कर ली गई ।

बकायदा ग्राउंड रिपोर्टिंग कर सच्चाई जिला प्रशासन के सामने रखी तो जिला पंचायत मुख्यकार्यपालन अधिकारी (CEO) जगदीश गोमे भी अवाक से रह गए तत्काल रिकॉड चेक करवाया जहाँ खबर को सही पाया कि मृतक के नाम पर आवास योजना का लाभ लिया गया और जीओ टैग भी कराकर रकम का आहरण किया जा चुका है।

जिला पंचायत मुख्यकार्यपालन अधिकारी जगदीश गोमे ने तत्काल जाँच का आदेश पारित कर एक सप्ताह में दोषियों के विरुद्ध आपराधिक कार्यबाही करने और आवास योजना की राशि को वापस लेने की कार्यवाही की जावेगी।