अक्का कंपनी में कार्यरत श्रमिकों के फाइनल पेमेंट व् बगीचे में लगे श्रमिकों को शासकीय दर भुगतान हेतु बीएमएस ने सौपा ज्ञापन

Scn news india

सारनी। आपको सविनय अनुरोध है कि सी एचपी 4 में कार्यरत अक्का लॉजिस्टिक्स कंपनी पिछले लगभग 2 वर्ष 5 में माह से काम कर रही है। जिसमें लगभग 277 श्रमिक कार्यरत है। हमारी जानकारी अनुसार अक्का कंपनी काम समाप्ति के पश्चात श्रमिकों को फाइनल पेमेंट का भुगतान नहीं करेगी। जबकि इससे पूर्व में इसी कार्य में कार्यरत मेकनली भारत कंपनी ने फाइनल पेमेंट का भुगतान किया था। और वह कंपनी प्रतिमाह पेमेंट के बाद पेमेंट सीट पर रेवनी टिकट लगाकर हम श्रमिको हस्ताक्षर करवाकर हमेशा सहमति लेती थी।

ठीक ऐसा ही उसके बाद सुनील हाईटेक कंपनी ने भी किया। मगर बैंक से बैंक करप्ट (एल. सी. एन. टी.) होने के कारण (ब्लैकलिस्ट) के कारण हमारा फाईनल पेमेंट का भुगतान रुका हुआ हैl उसके बाद उसी काम को कर रही अक्का कंपनी द्वारा हम सभी को से कभी भी पेमेंटसीट पर हस्ताक्षर नहीं करवाए गए। और अब वह कंपनी फाइनल पेमेंट के भुगतान करने से पीछे हट रही है श्रम कानून के अनुसार 240 दिन से ज्यादा यदि कोई श्रमिक काम नहीं करता है तो वह फाइनल पेमेंट का हकदार होता है उक्त कार्य में स्थानीय कार्यरत श्रमिकों के अलावा दूसरे राज्यों के श्रमिकों की भी भरमार है जो गंभीर एवं जांच का विषय है सूचना के अधिकार में मांगी गई जानकारी 22 जुलाई 2019 को अधीक्षण अभियंता सेवा दो द्वारा बताया गया कि कौन कंपनी का काम समाप्त होने के बाद सड़कों का फाइनल पेमेंट का भुगतान किया जाने का दायित्व है। विद्युत मंडल कंपनी द्वारा निर्मित बाग बगीचों की देखरेख में लगे लगभग 40 से 45 शुल्कों को नगद पेमेंट दी जाती है ।वही आधी अधूरी जो घोर अपराध व अन्याय हैं। उन श्रमिकों का भुगतान शासन की दरों के अनुरूप शीघ्र बैंक पेमेंट की जानी चाहिए उचित होगा वहां आए होगा। हम आपसे मांग करते हैं कि उक्त विषयों का निराकरण 5 दिनों में करें अन्यथा हम आंदोलन वाह हड़ताल करने के लिए बाधा होंगे जिसकी जिम्मेदारी प्रबंधन की होगी।