सरकारी कर्मचारी होने का गलत फायदा उठाते पटवारी

Scn news india

डिंडोरी गणेश शर्मा 

मध्यप्रदेश के डिंडोरी जिले के बजाग ब्लॉक अंतर्गत जिले के व्यवसायिक नगरी गाड़ासरई का मामला।
पुलिस थाना गाड़ासरई से लगा हुआ ट्राइबल विभाग की भूमि जो कि विगत वर्षों से कानून व्यवस्था को देखते हुए प्राथमिक विद्यालय को बच्चो के अभाव के कारण पुलिस विभाग को पुलिस चौकी के लिए दिया गया था,जिसमे लगभग 30 से35 वर्षो से पुलिस चौकी संचालित किया जा रहा है साथ ही कुछ साल पहले चौकी को थाना बना दिया गया था । धीरे धीरे समय के साथ आज से कुछ माह पहले थाना से ही लगी हुई जमीन जिसमे पुलिस थाना के द्वारा जप्ती सुदा वाहनों को खड़ा करना और थाने के उपयोग हेतु आवश्यक उपयोग में लिए जाने वाले जमीन को मझियाखार निवासी भोपाल सिंह ठाकूर जो कि बिगत वर्ष पहले गाड़ासरई निवासी बना था , मौके का फायदा उठाते हुए एक ओर शासकीय भूमि नाले को और दूसरी ओर पुलिस थाने की जमीन को दोनो तरफ से अवैध कब्जा कर मकान बना लिया है और तो और इच्छा की पूर्ति नही हुई तो साथ मे लंबा चौड़ा बाउंड्री बॉल बनाते हुए थाने के ही जमीन और सौर ऊर्जा को अपने कब्जे में भी ले लिया है, और प्रशासन मूक बनकर धृतराष्ट्र निगाहों से देख रहा है।

इस अवैध कब्जे एवम निर्माण को लेकर इस विषय की आपत्ति ग्राम पंचायत गाड़ासरई को भी हुई किन्तु सरपंच द्वारा की गई आपत्ति को भी भोपाल सिंह की पुत्री पटवारी होने के नाते गीतांजलि ठाकूर ने अपने आनन फानन कर स्टे को अलग कर बाउंड्री बॉल बनाने में कामयाबी हासिल किया।
इससे पहले भी इस विषय मे कई मीडिया पत्रकार बंधुओं ने खबर के माध्यम से प्रकाशित किया पर कोई कार्यवाही नही हो रहा।
एक ओर प्रशासन की भूमि दूसरी ओर राजस्व विभाग से पटवारी गीतांजलि ठाकुर की ताक़त।अब सवाल ये उठता है कि सरकार के पास ऐसी कौन सी मजबूरी थी जो भोपाल सिंह को शासकीय भूमि का पट्टा दिया गया।या फिर पट्टा नही तो ये सब है क्या क्या जांच का विषय नही बनता?
प्राप्त जानकारी के अनुसार वर्ष 1980से 2015 तक उक्त जमीन में भोपाल सिंह के द्वारा अवैध कब्जा दिखाई दे रहा है तो वर्ष 2015 के बाद सारे जमीन लता ठाकूर पति भोपाल सिंह ठाकुर के द्वारा क्यो? जब कुछ दिन पहले कुछ पत्रकारों ने अपने अखबार मीडिया के माध्यम से इस बात का उजागर किया था तो इन्ही के द्वारा टाल मटोल कर गुमराह किया गया था।


पुलिस थाना प्रभारी गाड़ासरई ने वर्ष 2019 में और वर्ष अभी 2021 में आपत्ति जाहिर किया इसके बाद भी इनके ऊपरप्रशासन के द्वारा (खिलाफ)कोई कार्यवाही नही किया जा रहा।
एक ओर मध्यप्रदेश सरकार के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के द्वारा ऐसे अवैध भू माफियायो के खिलाफ बड़ी मुहिम चलाई जा रही है पर यंहा तो भोपाल सिंह के द्वारा सभी को चुनौती देते हुए अवैध कब्जा कर धौस दिखाते नजर आ रहे है।
इससे पहले भी कई पुलिस थाना प्रभारियों से हुई बात विवाद पर नही हुई कोई कार्यवाही।


आपत्ति करता एक ओर ग्राम पंचायत गाड़ासरई और दूसरी ओर पुलिस प्रशासन गाड़ासरई और इन सबको चेतावनी देते हुए अपनी राजस्व विभाग में पटवारी होने के नाते भोपाल सिंह ठाकूर की पुत्री गीतांजलि ठाकुर ने अपनी ताकत का अंदाजा प्रगट करते नजर आ रहे है।
वंही मिली जानकारी के अनुसार कुछ लोगों ने इस विषय की शिकायत सी एम हेल्प लाइन में भी किये है जिसका निराकरण आज तक नही हुआ है और सी एम हेल्पलाइन की शिकायत4लेवल मान.संभागीय कमिश्नर जबलपुर के पास तक पहुंच चुका है।पर शिकायत करता को संबंधित राजस्व अधिकारियों के द्वारा सी एम हेल्पलाइन को बंद करने की हिदायतें तो दी जाती है पर निराकरण नही।
आखिर बात क्या है जब पानी इतने सर से ऊपर हो चुका है इसके बाद भी कोई कार्यवाही नही हो पा रही है।