कारागार के ताले अपने आप टूट गये

Scn news india

अमर सेन पटेरा
श्रीमदभागवत कथा के चौथे दिन भगवान श्री कृष्ण जन्म उत्सव मनाया गया। कथा वाचक सदानंद शुल्क की ओज मयी वाणी में भगवान कि कथा सुनाई पटेरिया गांव चल रही कथा में कृष्ण के जन्म का प्रसंग सुनाया कथा का आयोजन श्रोता अशोक अग्रवाल पत्नी अशोकरानी अग्रवाल रेलवे स्टेशन पटेरिया में रसपान चल रहा।

कथावाचक महाराज ने बताया कि कंस के अत्याचारों से त्रस्त मथुरा वासियों की पुकार सुनकर देवकी के आठवें पुत्र के रूप में कृष्ण ने अवतार लिया। कृष्ण ने कंस को मारकर माता-पिता को कारागार से मुक्त कराया और नाना को मथुरा के सिंहासन सौंप दिया। कथा में कृष्ण जन्मोत्सव बड़ी धूमधाम से मनाया गया भजन गायक डॉ मनु बैरागी ने भक्तों का मनमोह लिया!कथा में नन्द के आनन्द भयो जय कन्हैया लाल के सरीखे भजनों पर महिलाएं नाचने लगी। कथा में कृृष्ण जन्म नंदबाबा की झांकी सजाई गई। कथा में महाराज ने कहा कि वासुदेव -देवकी मथुरावासियों को दुराचारी कंस के अत्याचारों से मुक्ति दिलाने के लिए भगवान ने कृृष्ण जन्म लिया। भगवान श्रीकृष्ण का अवतार जीव को जीव से प्रेम करना सिखाता है। कृष्ण ने कई लीलाओं के माध्यम से लोगो को संदेश दिये है। इन लीलाओं का सार समझने वाला व्यक्ति सदैव जीवन में सुखी रहता है।