देश के सर्वश्रेष्ठ थानों में शामिल हुआ बुरहानपुर का अजाक पुलिस थाना

Scn news india

मनोहर 

भोपाल-मध्यप्रदेश पुलिस को एक बार फिर राष्ट्रीय स्तर पर प्रतिष्ठा मिली है। भारत सरकार के गृह मंत्रालय ने मौजूदा साल के लिए देश के जिन तीन सर्वश्रेष्ठ पुलिस थानों को चुना है, उनमें मध्यप्रदेश के बुरहानपुर जिले का अजाक थाना भी शामिल है। केन्द्रीय गृह मंत्रालय के इंटेलीजेन्स ब्यूरो के संयुक्त निदेशक एवं कान्फ्रेंस सेक्रेटरी श्री ऋत्विक रुद्र ने पत्र के जरिए यह सूचना मध्यप्रदेश के पुलिस महानिदेशक श्री विजय कुमार सिंह को दी है।

देश के तीनों सर्वश्रेष्ठ पुलिस थानों के प्रभारियों को  6 दिसंबर को केन्द्रीय गृह मंत्री द्वारा पुणे   में डीजीपी-आईजी कान्फ्रेंस-2019 में  सम्मानित किया जाएगा। कान्फ्रेंस में अजाक पुलिस थाना बुरहानपुर के प्रभारी उप-निरीक्षक श्री किशोर कुमार अग्रवाल को सम्मानित करने के लिए आमंत्रित किया गया है।

पुलिस महानिदेशक श्री विजय कुमार सिंह ने अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक अजाक श्रीमती प्रज्ञा ऋचा श्रीवास्तव, बुरहानपुर के पुलिस अधीक्षक श्री अजय सिंह, पुलिस अधीक्षक अजाक श्री अरविंद तिवारी और अजाक थाना प्रभारी श्री किशोर कुमार अग्रवाल को इस उपलब्धि के लिए बधाई दी है।   

केन्द्रीय गृह मंत्रालय द्वारा भारत के सभी राज्यों के एससीआरबी (राज्य अपराध अभिलेख ब्यूरो) में उपलब्ध सीसीटीएनएस (क्राइम एंड क्रिमिनल ट्रैकिंग नेटवर्क एंड सिस्टम) डाटा के आधार पर आरंभ में देश के सर्वश्रेष्ठ 100 पुलिस थानों का चयन किया था। इसके बाद मैदानी स्तर पर तीन चरण में अलग-अलग एजेंसियों के माध्यम से गुप्त सर्वे कराकर तीन सर्वश्रेष्ठ थानों को चुना गया है।

देश के तीन अव्वल पुलिस थानों को लगभग 50 बिंदुओं की प्रश्नावली के आधार पर चयनित किया गया है। गुप्त सर्वे में इस बात का खास तौर पर पता लगाया कि आम जनता में पुलिस की छवि कैसी है। पुलिस थानों का रख-रखाव, अनुशासन और रिकार्ड संधारण, पीडितों की संतुष्टि के साथ शिकायतों का शीघ्रता से निराकरण और बुनियादी सुविधाएँ मसलन पेयजल, शौचालय और आगुंतकों के लिए बैठने की व्यवस्था इत्यादि की स्थिति क्या है। सर्वे के दौरान थाने की कार्य-प्रणाली के बारे में कारोबारियों, समाज सेवियों एवं शासकीय सेवकों सहित समाज के सभी वर्गों की राय की जाँच एजेंसियों द्वारा करवाई गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.