जलपहरी के प्रयास से होगा सतपुड़ा जलाशय की चाइनीस झालर निस्पादन – मोहन नागर

Scn news india

जलपहरी मोहन नागर ने देखी सतपुड़ा जलाशय की चाइनीस झालर

कहा जन सहयोग से निकालेंगे सतपुड़ा जलाशय की चाइनीस झालर

सारनी । जलाशय सतपुड़ा डैम में सलविनिया मोलेस्टा (चाइनीज झालर) नामक खरपतवार पनपना शुरू हुई थी जब बात बढ़ी तो सतपुड़ा ताप विद्युत गृह सारनी प्रबंधन ने अक्टूबर 2018 में जबलपुर से वैज्ञानिकों का दल बुलाया गया था उन्होंने प्रबंधन को जल्द से जल्द सतपुड़ा जलाशय की सफाई करवाने का सुझाव दिया पर ताप विद्युत प्रबंधन ने अपनी आवश्यकता अनुरूप ही जलाशय की सफाई की इसका परिणाम यह हुआ की आज यह डैम अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ रहा है। लगातार पत्र-पत्रिकाओं में जलाशय की पीड़ा सामने आई और विधानसभा के पटल पर भी चाइनीस झालर का मुद्दा गूंज चुका है किंतु परिणाम ढाक के तीन पात ही रहा और सतपुडा जलाशय के साथ जलीय जंतुओं के अस्तित्व पर भी खतरा मंडराने लगा |


जिसे देखने के लिए आज जलपहरी मोहन नागर सारनी सतपुडा जलाशय पहुचे उन्होने इस अवसर पर कहा की जिस स्तर पर चाइनीस झालर ने जलाशय को अपनी गिरफ्त में लिया है उससे सतपुडा जलाशय के अस्तित्व पर खतरा मंडरा रहाँ है अगर सतपुडा जलाशय का संरक्षण करना है तो इस हेतु समग्र प्रयास करना होगा नही तो सतपुडा जलाशय अपनी पहचान खो देगा
मोहन नागर जी ने इस अवसर पर कहा की यह जलाशय के संरक्षण से न केवल मानव प्रजाति अपितु जलीय जीव जंतु को भी नव जीवन मिलेगा जल पहरी मोहन नागर ने नगर प्रबुद्ध जन से अपील करी की सतपुडा जलाशय से चाइनीस झालर को जन भागीदारी से निकालने के लिए आगे आ कर प्रयास करे।

क्या है सलविनिया मोलेस्टा ( चाइनीस झालर ) : –
सलविनिया मोलेस्टा
सलविनिया मोलेस्टा पानी के उपर तैरने वाला जलीय पौधा है यह मूलतः साउथ ब्राजील का पौधा है। दिखने में आकर्षक होने की वजह से एक्वेरियम व अन्य जगहों पर रखने के लिए इसका विश्व के कई देशों में अपयोग और परिवहन हुआ और फिर लोगों द्वारा इसे नदियों और झीलों में फेंका गया जिससे यह प्रकृतिक के किनारे नदियों में और जलाशय आदि में फैल गया। सलविनिया मोलेस्टा अनुकूल वातावरण मिलने पर लगभग सात दिन में दोगुना हो जाता है। इसलिए पानी की निचली सतह पर मौजूद काई व अन्य पौधों की धूप न मिलने कि वजह से मृत्यु हो जाती है। इससे वह सड़ने लगते हैं और पानी प्रदूषित हो जाता है। दूषित पानी के इस्तेमाल से इंसानों व अन्य जीवों को बीमारियां होती है। सलविनिया मोलेस्टा डेंगू मलेरिया फैलाने वाले मच्छरों के लारवा के पनपने के लिए उपयुक्त वातावरण प्रदान करता है । इस अवसर पर भाजपा के जिला मंत्री रंजीत सिंह पूर्व जिला उपाध्यक्ष कमलेश सिंह पूर्व मंडल अध्यक्ष सुधा चन्द्रा ग्रमीण मंडल अध्यक्ष नाविक श्रमिक संघ के जिलाध्यक्ष मोहन मोरे मंडल महामंत्री किशोर बरदे प्रकाश शिवहरे उपस्थित थे सभी ने जन भागीदारी से सतपुड़ा जलाशय के संरक्षण के लिए सतपुड़ा जलाशय संरक्षण समिति बनाकर जल पहरी मोहन नागर विधायक डा योगेश पंडाग्रे के नेतृत्व में जन भागीदारी से जलाशय का संरक्षण करने पर सहमती बनाई।