निजी करण का विरोध – विधुत मण्डल के अधिकारियों एवं कर्मचारियों ने सम्पूर्ण कार्य बहिष्कार किया

Scn news india

शाहपुर के मध्य प्रदेश विधुत मण्डल के अधिकारियों एवं कर्मचारियों ने सम्पूर्ण कार्य बहिष्कार किया। हम लोगों का संपूर्ण कार्य बहिष्कार है 3 फरवरी 2021 को केंद्र शासन विद्युत क्षेत्र में वितरण कंपनियों के घाटे, एवं उपभोक्ताओं को सुविधाओं के नाम पर औद्योगिक घराने को फायदा पहुंचाने के लिए संपूर्ण विद्युत क्षेत्र का निजी करण की योजना है विद्युत क्षेत्र के विशेषज्ञ से बात ना करके ,एवं चर्चा ,के लिए विद्युत क्षेत्र के संगठनों को समय न देकर एक तरफा निर्णय लेकर विद्युत सुधार अधिनियम 2020 एवं वितरण कंपनियों के लिए निजी करण हेतु एसबीडी लाकर निजीकरण करने जा रही है। जिससे आम उपभोक्ताओं किसानों एवं विद्युत क्षेत्र में कार्यरत सभी प्रकार के कर्मचारियों का भविष्य अंधकार में होगा। इन सब मुद्दों को लेकर एनसीटीई द्वारा पूरे देश में 3 फरवरी 2021 को एक दिवसीय कार्य बहिष्कार का आह्वान किया गया। जिसके अंतर्गत मध्यप्रदेश यूनाइटेड फोरम के बैनर तले संपूर्ण मध्यप्रदेश में भी कार्य बहिष्कार किया जाएगा। फरवरी को अभी मांगे नहीं मानी गई। तो हम लोग इससे उग्र आंदोलन करेंगे। यदि नहीं मांगे मानी गई ।तो हम लोग इससे उग्र आंदोलन करेंगे ।उत्पादन, वितरण ,इनको जो निजी घरानों को सौंपने का जो उनका निर्णय है । इसको उनको वापस लेना चाहिए।और इसके विरोध के लिए हम लोग 7 फरवरी को सभी लोग जितने विद्युत अधिकारी है ।कर्मचारी लोग हैं। सभी लोग भोपाल पहुंचेंगे। और वहां व्यक्त विशाल रैली और एक जनसभा संबोधित करेंगे। और यह निजी करण का हम लोग विरोध करते हैं। और विद्युत विभाग के अधिकारी कर्मचारी और किसानों ,आम पब्लिक ,के हित में कतई नहीं है। इससे निजी करण का जो निर्णय को केंद्र सरकार वापस ले।