सीएम हेल्पलाइन के प्रकरणों के निराकरण के लिये निरंतर प्रयास करें – कलेक्टर

Scn news india

प्रकरण एल वन से बिना कार्यवाही एल टू में गये तो होगी कार्यवाही – कलेक्टर

कामता तिवारी
संभागीय ब्यूरो रीवा
Scn news india

रीवा-कलेक्टर डॉ. इलैयाराजा टी ने कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित बैठक में अधिकारियों को सीएम हेल्पलाइन प्रकरणों के निराकरण के लिये निरंतर प्रयास के निर्देश दिये। कलेक्टर ने कहा कि सभी अधिकारी हर दिन सीएम हेल्पलाइन के प्रकरण स्वयं देखें तथा आवेदक से चर्चा करके प्रकरण के निराकरण के प्रयास करें। कई विभागों में सीएम हेल्पलाइन के प्रकरणों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। आमजनों से संवाद तथा सेवाओं में कमी होने पर ही सीएम हेल्पलाइन में शिकायतें होती हैं। हम विभाग की सेवाओं को बेहतर करने के साथ आम जनता से अच्छे से संवाद करें। उनसे विनम्रता से पेश आयें तो आधी से अधिक शिकायतें हल हो जायेंगी। अधिकारी अपना अहंकार छोड़कर जन कल्याण पर ध्यानकेन्द्रित करें।
कलेक्टर ने कहा कि सीएम हेल्पलाइन के प्रकरणों के संबंध में लगातार निर्देश दिये जा रहे हैं। इसके बावजूद अधिकारी तत्परता से कार्यवाही नहीं कर रहे हैं। सीएम हेल्पलाइन के प्रकरण यदि बिना किसी कार्यवाही के लेबल वन से लेबल टू में आयेंगे तो कार्यवाही की जायेगी। जिला पंचायत में सर्वाधिक योजनायें तथा काम का दबाव है। इसके बावजूद जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी ने पिछले तीन महीनों में पूरी सक्षमता से सीएम हेल्पलाइन के प्रकरण निराकृत करके प्रदेश में लगातार अच्छा स्थान बनाया है। जब तक हमारा माइंड सेटअप सकारात्मक नहीं होगा तब तक शिकायतों के निराकरण में कठिनाई आती रहेगी।
बैठक में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी स्वप्निल वानखेड़े ने सीएम हेल्पलाइन के प्रकरणों के निराकरण के संबंध में कहा कि अधिकारियों को स्वयं रूचि लेकर कार्य करना पड़ेगा। सीएम हेल्पलाइन प्रकरणों के निराकरण के लिये कार्यालय के सबसे कुशल और समझदार कम्पयूटर ऑपरेटर को तैनात करें। उसे लोगों से धैर्य पूर्वक बात करना भी आना चाहिए। आमजन की पूरी बात सुन ली जाय और विनम्रता से स्थिति स्पष्ट कर दी जाये तो अधिकतर शिकायतें निराकृत हो जाती हैं। शेष शिकायतों के निराकरण के लिये जनपद स्तर पर तैनात अधिकारियों-कर्मचारियों का आवेदक से संवाद करायें। इसके बाद भी जो शिकायतें शेष रहें उनसे जिला स्तर पर बुलाकर चर्चा करें। इनसे 90 प्रतिशत से अधिक शिकायतों का निराकरण हो जायेगा। आमजन से सही संवाद और समझदारी ही सीएम हेल्पलाइन से निपटने के सबसे बड़े हथियार हैं।
बैठक में कलेक्टर ने कहा कि राजस्व विभाग में भी सीएम हेल्पलाइन के प्रकरणों की संख्या बहुत अधिक हो गई है। मनगवां, नईगढ़ी तथा हुजूर तहसीलों में दो-दो सौ से अधिक शिकायतें लंबित हैं। शिक्षा, ऊर्जा, वित्त, पीएचई, खाद्य तथा कुछ अन्य विभागों ने भी प्रकरणों की संख्या अधिक है। सभी एसडीएम संबल योजना के पात्र हितग्राहियों के नाम शामिल करने तथा पात्र हितग्राहियों को खाद्यान्न पर्ची जारी करने की कार्यवाही तत्परता से करें। संबल पोर्टल में गलत तरीके से अपात्र बनाये गये पात्र व्यक्तियों के संबंध में भी अपर कलेक्टर को प्रकरण भेजें। पात्र हितग्राहियों को खाद्यान्न पर्ची जारी करने पर भी विशेष ध्यान दें। कलेक्टर ने कहा कि दिव्यांग शिविरों में शेष बचे हितग्राहियों को एसडीएम चिन्हित उपकरणों का वितरण करायें। बैठक में कलेक्टर ने निराश्रितों तथा वृद्धजनों के पुनर्वास, गेंहू खरीदी के लिये पंजीयन तथा स्वच्छता अभियान के संबंध में अधिकारियों को निर्देश दिये। बैठक में अपर कलेक्टर श्रीमती इला तिवारी, संयुक्त कलेक्टर अंजली द्विवेदी, संयुक्त कलेक्टर केपी पाण्डेय, संयुक्त कलेक्टर माला त्रिपाठी, सभी एसडीएम तथा संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।