थाना प्रभारी लाईन अटैच -पुलिस प्रताड़ना के बाद कि गई आत्महत्या का आरोप

Scn news india

बैतूल – चिचोली थाना अंतर्गत ग्राम सेहरा गाँव की घटना ने  पुलिस की छबि पर फिर सवालिया निशान लगे है। थाना चिचोली  में पदस्थ  थाना प्रभारी दीपक पराशर को एक बार फिर लाईन अटैच कर दिया गया। इससे पहले भी पराशर को शाहपुर थाना क्षेत्र में लगे मेले में बवाल और कारवाही में लापरवाही के मामले में लाइन अटैच लिया जा चूका है।

हाल ही की घटना ने फिर उनकी कार्य प्रणाली पर प्रश्न चिन्ह लगाया है। बता दे कि  सेहरा गांव के सियाराम द्वारा पुलिस प्रताड़ना के बाद कि गई आत्महत्या की घटना के  बाद आदिवासी ग्रामीणों ने चिचोली थाने का घेराव कर दिया था,  जिसके बाद पुलिस अधीक्षक सिमाला प्रसाद ने  टीआई को लाइन अटैच कर जांच करने और कलेक्टर द्वारा  रेड क्रॉस से तत्काल पीड़ित परिजनों को सहायता  उपलब्ध कराए जाने के कही मामला शांत हुआ और  शव रख कर प्रदर्शन कर रहे आदिवासी ग्रामीण शव  लेकर गांव चले गए  ।
घटना की जानकारी देते आदिवासी संगठन के दिलीप धुर्वे हेमन्त सरियाम ने बताया कि बीते कि 2019 में सेहरा के युवक मनोज /भूरा धुर्वे जब पाढर से घर लौट रहा था तब माचना नदी के ऊपर अज्ञात लोगों ने पेट्रोल डाल कर ज़िंदा जला दिया था । मामला चिचोली थाने में दर्ज हुआ था इस मामले की जांच कर में ही चिचोली पुलिस ने मृतक  सियाराम सहित अन्य 10 लोगो को पूछताछ के लिए बीते दिनों थाने बुलाया था । पूछताछ कर छोड़ने के बाद ही घर पहुंचकर सियाराम ने ज़हरीला पदार्थ खा लिया था जिसके बाद उसे गम्भीर हालत में भोपाल रेफर किया गया था। जहाँ  उसकी मौत हो थी।भोपाल से शव लेकर लौटे ग्रामीणों ने पहले गांव में शव रख कर प्रदर्शन किया फिर दोपहर में चिचोली थाने में रख कर घेराव किया ।हेमन्त सरियाम के मुताबिक पीड़ित की पत्नी अनिता ने पुलिस और एसडीएम को लिखित शिकायत की है चिचोली टीआई समेत 5 पुलिस कर्मियों के विरुद्ध एफआईआर की मांग की है ।एसडीएम बैतूल सीएल चनाप ने थाने में बैठे ग्रामीण आदिवासियों का ज्ञापन लेकर पीड़िता की पत्नी अनिता को कलेक्टर राकेश सिंह द्वारा रेडक्रास से स्वीकृत सहायता के दस हजार रुपये सौंपे है । एसडीओपी शाहपुर महेंन्द्र मीना ने बताया कि घटना की जांच को देखते हुए पुलिस अधीक्षक सिमाला प्रसाद ने चिचोली थाना प्रभारी दीपक पाराशर को लाइन अटेच कर दिया है ।