10वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षा में उत्तीर्ण होने के लिए 23 प्रतिशत अंक की आवश्‍यकता वाली खबर पूर्णत: भ्रामक

Scn news india

मनोहर

सरकार ने सोशल मीडिया में किये जा रहे इस दावे का खंडन किया है कि वर्ष 2021 की 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षा में उत्तीर्ण होने के लिए 33 प्रतिशत की बजाय 23 प्रतिशत अंक ही प्राप्‍त करने आवश्‍यक होंगे। पत्र सूचना कार्यालय-पीआईबी ने इस खबर को फर्जी बताया है और स्पष्ट किया गया कि शिक्षा मंत्रालय ने इस तरह की कोई घोषणा नहीं की है। बता दे कि सोशल मीडिया पर विगत सप्ताह से वायरल हो रही खबर में कहा जा रहा है कि इस बार की बोर्ड परीक्षा में उत्तीर्ण होने के लिए अब 33 फीसदी से घटाकर 23 फीसदी कर दी गई है। कोरोना के कारण प्रभावित हुई पढ़ाई के कारण छात्रों की भलाई के लिए ऐसा फैसला लिया गया है। वर्ष 2021 की बोर्ड परीक्षा में छात्र महज 23 फीसदी यानी 100 में से मात्र 23 अंक लाकर भी पास हो सकेंगे। हालांकि जब इस खबर की पड़ताल की गई तो यह सूचना गलत पाई गई है।

सरकारी एजेंसी पीआईबी यानी प्रेस इंफॉर्मेशन ब्यूरो की एक फैक्ट चेक टीम ने अपने ट्विटर हैंडल से इस वायरल खबर की पड़ताल की है। PIB Fact Check की तरफ से ट्वीट किया गया, ‘दावा:- सोशल मीडिया पर एक पोस्ट में दावा किया जा रहा है कि 10वीं और 12वीं की 2021, बोर्ड परीक्षा में अब पास होने के लिए 33 प्रतिशत अंक को घटाकर 23 प्रतिशत कर दिया गया है। यह दावा फर्जी है। शिक्षा मंत्रालय ने ऐसी कोई घोषणा नहीं की है।