कुपोषण एवं उसके अंतर्निहित कारकों के प्रबंधन एवं रोकथाम को जन आंदोलन

Scn news india

 

प्रवीण मलैया 

जीवन चक्र के प्रथम 1000 दिवस पर चर्चा पोषण अभियान के लक्ष्यों को प्राप्त करने एवं सुपोषित मध्य प्रदेश हेतु प्रदेश में कुपोषण एवं उसके अंतर्निहित कारकों के प्रबंधन एवं रोकथाम को जन आंदोलन का स्वरूप दीया जाने तथा समुदाय आधारित गतिविधियों का आंगनवाड़ी केंद्रों पर 1 जनवरी 2021 से 31 मार्च 2021 तक आयोजन किया जा रहा है पोषण अभियान भारत सरकार का एक महत्वकांक्षी अभियान है जिसके माध्यम से बच्चों में व्याप्त कुपोषण एवं एनीमिया तथा महिलाओं एवं किशोरियों में व्याप्त एनीमिया में वर्तमान दर में चरणबद्ध तरीके से कमी लाने हेतु समुदाय की सहभागिता को जन आंदोलन का स्वरूप दिए जाने पर विशेष जोर दिया जा रहा है शासन की मनसा अनुरूप सुपोषित मध्य प्रदेश के संकल्पना हेतु ग्राम स्तर पर तैयार पोषण प्रबंधन रणनीति तैयार की गई है इसके अंतर्गत सम्मिलित किए गए विभिन्न हस्तक्षेपो के क्रियान्वयन एवं निगरानी में स्थानीय निकाय समुदाय एवं हितग्राहियों के परिवार की भागीदारी हेतु ग्राम स्तर पर समुदाय आधारित गतिविधियों का आयोजन आगामी 3 माह तक जन आंदोलन के रूप में आंगनवाड़ी केंद्रों में कोविड-19 के प्रोटोकॉल का पालन करते हुए किया जा रहा है अभियान के प्रथम सप्ताह में जीवन के प्रथम अनमोल 1000 दिवस की अवधारणा पोषण संवाद हेतु पोषण कार्यशाला का आयोजन किया गया जिसमें ग्राम की उपस्थित महिलाओं के साथ गर्भावस्था की शीघ्र पहचान एवं पंजीयन प्रसव पूर्व एवं पश्चात स्वास्थ्य जांच की आवश्यकता सभी गर्भवती धात्री महिलाओं का मासिक वजन का विश्लेषण पर चर्चा की गई एवं रंगोली एवं पोषण सामग्री के माध्यम से उन महिलाओं को पोषण पर जानकारी दी गई कार्यक्रम में उपस्थित पर्यवेक्षक अनामिका झारी आंगनवाड़ी कार्यकर्ता कंचन पांडे, विमल रावल, कुसुम जायसवाल सायिका मंजू कहार, कांति आरसे शामिल है