विन्ध्य की प्रतिभाशालिनी बेटी शिवी ने लिखी इसरो की भविष्य गाथा, इसरो की राष्ट्रीय निबंध प्रतियोगिता में शिवी को मिली सफलता

Scn news india

कामता तिवारी
ब्यूरो सतना
Scn news india

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान परिषद इसरो द्वारा राष्ट्रीय निबंध प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। इसका विषय आगामी 10 वर्षों में इसरो के विकास की संभावनाएं तथा उपलब्धियां थी। रीवा की प्रतिभाशालिनी बेटी शिवी शुक्ला ने इस राष्ट्रीय प्रतियोगिता में शानदार निबंध लिखकर सातवां स्थान प्राप्त करने में सफलता पायी। शिवी ने बताया कि उन्होंने इसरो द्वारा भारत में अब तक किये गये अंतरिक्ष अनुसंधान के कार्यों को आधार बनाकर उसकी आगामी 10 वर्षों की सफलताओं की कहानी लिखी। अमेरिका, रूस तथा चीन जैसे देशों की अंतरिक्ष प्रणाली से भारत के अंतरिक्ष विकास की तुलना करते हुए कम लागत में अंतरिक्ष में सफल अभियान के संबंध में इसरो की संभावनाओं को व्यक्त किया। निबंध में चंन्द्रयान तथा मंगलयान के संबंध में भी तथ्यपूर्ण जानकारियां दी गर्इं। इसरो द्वारा 100 से अधिक सेटेलाइट को एक साथ अंतरिक्ष में प्रक्षेपित करने तथा उपग्रह प्रक्षेपण की व्यावसायिक सफलता की संभावनाएं भी निबंध में रेखांकित की गर्इं। इनकी सराहना इसरो की टीम द्वारा की गई।
शिवी शुक्ला रीवा की रहने वाली हैं। उनके पिता श्री त्रिभुवन प्रसाद शुक्ला शासकीय हाई स्कूल सुरसा में प्राचार्य हैं। शिवी शुक्ला के परिवार में शिक्षा विशेषकर विज्ञान की शिक्षा के लिये सकारात्मक वातावरण शुरू से ही है। उनकी दो बड़ी बहनों ने इंजीनियरिंग की पढ़ाई की हुई है। शिवी तथा उनकी दोनों बहनों को अच्छी शिक्षा का मार्गदर्शन तथा प्रेरणा माता श्रीमती शैलजा शुक्ला से मिल रही है। शिवी शुक्ला ने सरस्वती उमावि विद्यालय निरालानगर से कक्षा 12वीं की परीक्षा गत वर्ष उत्तीर्ण की है। उन्होंने प्राथमिक से लेकर 12वीं तक की शिक्षा के दौरान निबंध लेखन एवं भाषण प्रतियोगिताओं में सदैव श्रेष्ठ स्थान प्राप्त किया। राष्ट्रीय निबंध प्रतियोगिता में सफलता प्राप्त करके शिवी ने विन्ध्य क्षेत्र का गौरव बढ़ाया है। कलेक्टर डॉ. इलैयाराजा टी ने शिवी शुक्ला को इसरो द्वारा प्रदान प्रमाण पत्र तथा पुस्तक का उपहार देकर सम्मानित किया। कलेक्टर ने कहा कि विज्ञान तथा स्पेस साइंस में रूचि होना बहुत महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि आगामी शिक्षा प्राप्त करने के लिये शिवी को शिक्षा में हर संभव सहायता दी जायेगी।