विश्व-भर से घर बैठे भारत भवन का वर्चुअल भ्रमण कर सकेंगे कला रसिक

Scn news india

मनोहर

इंदौर – देश में कला गतिविधियों में महत्वपूर्ण स्थान रखने वाले भारत भवन का कला रसिक अब विश्व के किसी भी कोने से वर्चुअल भ्रमण कर सकेंगे। संस्कृति, पर्यटन एवं आध्यात्म मंत्री सुश्री उषा ठाकुर ने आज भारत भवन भोपाल में मध्यप्रदेश के ऐतिहासिक और पौराणिक स्थलों पर आधारित खूबसूरत जलरंग कला प्रदर्शनी का शुभारंभ करने के बाद कला पंचांग और भारत भवन वर्चुअल टूर का लोकार्पण किया। प्रमुख सचिव जनसम्पर्क, संस्कृति एवं पर्यटन श्री शिवशेखर शुक्ला, संचालक संस्कृति श्री अदिति कुमार त्रिपाठी भी मौजूद थे।
मंत्री सुश्री ठाकुर ने कहा कि संस्कृति विभाग अपनी गतिविधियों से कोविड-19 की कठिनाईयों को चुनौती देते हुए लोगों को उमंग से भर सकता है। उन्होंने अभिनव शुरूआत के लिये प्रमुख सचिव श्री शुक्ला और वर्चुअल टूर का निर्माण करने वाले श्री हितेश आहूजा की प्रशंसा करते हुए कहा कि कोविड-19 की चुनौतियों के बीच यह अनोखी शुरूआत है, जिसमें दर्शक अपनी मर्जी से पूरे भारत भवन का भ्रमण कर जितना वक्त चाहें एक-एक कलावस्तु को देखने में बिता सकते हैं। मंत्री सुश्री ठाकुर ने कहा कि कला पंचांग में सितम्बर से मार्च तक की गतिविधियाँ दी गई हैं, जिससे देश-विदेश के कलाकारों को मार्गदर्शन और सूचना मिलेगी।

कला रसिक ले सकेंगे पिछले 38 वर्षों के कार्यक्रमों का आनंद

न्यासी सचिव भारत भवन श्री शुक्ला ने कहा कि मध्यप्रदेश ने पिछले वर्षों में पर्यटन के क्षेत्र में बहुत अच्छी जगह बनाई है। कोविड-19 के कारण बदली हुई परिस्थियों में लोग भीड़-भाड़ की जगह शांत, प्राकृतिक और पौराणिक स्थानों पर जाना चाहते हैं, जिनकी मध्यप्रदेश में प्रचुरता है। अब पर्यटन के साथ संस्कृति को जोड़कर देश-विदेश के पर्यटकों को मध्यप्रदेश की विविधतापूर्ण संस्कृति से भी अवगत कराया जाएगा। उन्होंने कहा कि कोरोना काल में भी कला रसिक कला आस्वादन कर सकें इसके लिये संस्कृति विभाग भारत भवन की स्थापना 1982 से लेकर अब तक के कार्यक्रमों का डिजिटलाईजेशन कर दर्शकों के समक्ष वर्चुअली प्रस्तुत करने की तैयारी कर रहा है। वर्ष 1982 से 1997 तक का कार्य पूरा हो चुका है। भारत भवन के पिछले 38 वर्षों का ऑडियो/वीडियो कला रसिकों को जल्दी ही डिजिटल फॉर्म में मिलेगा।
कार्यक्रम में सुश्री संगीता गोस्वामी और साथियों ने वाणी वंदना की सांगीतिक प्रस्तुति की। संचालन मुख्य प्रशासनिक अधिकारी श्री प्रेमशंकर शुक्ला ने किया और आभार संचालक श्री अदिति कुमार त्रिपाठी ने किया।