भैंसदेही में बाबा साहेब की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर मनाया संविधान अंगीकृत दिवस

Scn news india

बाबा सोलंकी

भैंसदेही :- आम्बेडकर मैदान बस स्टैंड भैंसदेही के प्रांगण में आम्बेडकर समिति भैंसदेही द्वारा आज बाबा साहेब (डॉ भीमराव आंबेडकर) की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर कैंडल लजाये और साथ ही बाबा साहेब के जयकारों के साथ कार्यक्रम को प्रारंभ कर अंत मे बाबा साहेब के आदर्शों पर चंलने की शपथ लेते हुए कार्यक्रम को सम्पन्न किया कार्यक्रम में उपस्थित,

आम्बेडकर समिति अध्यक्ष श्री यादवराव मोहरे ने बताया कि:- प्रतिवर्ष 26 नवंबर को हम संविधाम दिवस मनाते हैं। 26 जनवरी 1950 को भारत का संविधान लागू हुआ था, लेकिन इससे पहले 26 नवंबर 1949 यानी आज ही के दिन इसे अपनाया गया था सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय ने 19 नवंबर 2015 को इस दिन को संविधान दिवस मनाया जाता है।

समिति सह सचिव सुभाष ने बताया कि संविधान लिखित सिद्धांत, मौलिक सिद्धांत, अधिकार सरकार और नागरिकों के कर्तव्य आदि का जिक्र है।

ललित छत्रपाल ने बताया कि संविधान भारत का राजधर्म है। संविधान का निर्माण 1946 में गठित संविधान सभा ने किया था।इस प्रकार 26 नवंबर, 1949 की तिथि भारतीय गणतंत्र के लिए ऐतिहासिक महत्व की है। इस ओर सबसे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ही ध्यान गया। मुंबई में डॉ. आंबेडकर की प्रतिमा का शिलान्यास करते हुए मोदी ने 11 अक्टूबर, 2015 को एलान किया कि 26 नवंबर संविधान दिवस के रूप में मनाया जाएगा।
उपस्थित अंबेडकर समिति अध्यक्ष श्री यादवराव मोहरे , मदन विजयकर ,रामा वसनकर , श्रीराम भुसकुटे , सुभाष मोहरे , हबिब भाई , ललित छत्रपाल , सूरज लवाहे , विक्की मोहरे , टीकाराम जी , मधू जी , शंकर जी , एवम बड़ी सांख्य में बाबा साहेब के अनुयायी , सामाजिक
कार्यकर्ता उपस्थित रहे।