भक्तों का दुःख दूर करने के लिए भगवान ने लिया जन्म

Scn news india

आचार्य कौशलेंद्र कृष्ण शास्त्री जी

बस्ती. बस्ती जिले के कप्तानगंज टिनिच रोड स्थित नकटी देई गाँव में कथावाचक आचार्य कौशलेंद्र कृष्ण शास्त्री जी महाराज के मुखारविंद से चल रही संगीतमय श्रीमद् भागवत कथा में भगवान श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव धूमधाम से मनाया गया। कथा के दौरान जैसे भगवान का जन्म हुआ तो पूरा पंडाल नंद के आनंद भयो जय कन्हैया लाल की… के जयकारों से गूंज उठा। इस दौरान लोग झूमने-नाचने लगे। इसके बाद बादल साँवरिया की मनमोहक झांकी ने सभी श्रोताओं को भक्ति के रस से सराबोर कर दिया।

भगवान श्रीकृष्ण की वेश में नन्हें से बालक का दर्शन करने के लिए लोग लालायित नजर आये। भगवान के जन्म की खुशी पर महिलाओं द्वारा अपने घरों से लाए गए गुड़ के लड्डुओं से भगवान को भोग लगाया। इस अवसर पर आचार्य कौशलेंद्र कृष्ण शास्त्री जी ने कहा कि जब धरती पर चारों ओर त्राहि-त्राहि मच गई, चारों ओर अत्याचार, अनाचार का साम्राज्य फैल गया, तब भगवान श्रीकृष्ण ने देवकी के आठवें गर्भ के रूप में जन्म लेकर कंस का संहार किया। इस अवसर पर उन्होंने भगवान श्रीकृष्ण की विभिन्न बाल लीलाओं का वर्णन किया। कथा के दौरान बड़ी संख्या में मौजूद श्रद्धालुओं ने बादल साँवरिया द्वारा गणेश जी, हनुमानजी के साथ राधा कृष्ण की कई अदभुत व अलौकिक झांकियों का खूब आनंद लिया। आयोजक करिया बाबा ने बताया कि भागवत कथा का रसपान करने के लिए विशेष रूप से मुंबई से आये पत्रकार इंद्र प्रकाश तिवारी, यच पी तिवारी, राम तिवारी, वरिष्ठ पत्रकार राकेश पांडेय, दिनेश पांडेय, उपेन्द्र तिवारी, अनिल तिवारी आदि उपस्थित रहे।
मुख्य यजमान अंकित मिश्र के घर पर कथा के साथ ही यज्ञाचार्य अतुल शास्त्री के सानिध्य में
पंडित हरिशंकर शुक्ला, पंडित रामायण दुबे व पंडित उदयनारायण दुबे जी द्वारा प्रतिदिन रुद्राभिषेक व हवन किया जा रहा है।
करन अर्जुन झा ब्रदर्स के मधुर भजन, कीर्तन व संगीत भक्तों को बहुत पसंद आया। इनके गाये सोहर पर महिलाओं ने झूम कर नृत्य भी किया। आयोजक करिया बाबा मिश्र ने बताया कि कथा 28 नवंबर तक चलेगी। साथ ही क्षेत्रवासियों से निवेदन किया है कि इस दिव्य कथा का अवश्य लाभ उठाएं।