इन राज्यों में हो रही बारिश, पढ़ें क्या है मौसम का मिजाज

Scn news india

मनोहर

पश्चिम उत्तर प्रदेश के कुछ स्थानों में हल्की बारिश हुई है, मौसम विभाग ने बताया का पूर्वी यूपी में सुबह के समय कोहोरा रहा. शुक्रवार को मौसम खुश्क रहने का अनुमान लगाया गया है.
21 से 23 सितंबर के बीच केरल में थमेगी बारिश
21 से 23 नवंबर के बीच केरल में बारिश काफी कम हो जाएगी. लेकिन बारिश का अगला स्पेल 23 नवंबर से शुरू होगा क्योंकि बंगाल की खाड़ी के मध्य और दक्षिण पूर्वी भागों पर एक नया मौसमी सिस्टम उभरता हुआ नजर आ रहा है जो धीरे-धीरे आगे बढ़ेगा और मिनी मॉनसून को दक्षिण भारत पर फिर से सक्रिय कर देगा.
20 नवंबर को झारखंड में होगी हल्की बारिश
मौसम विभाग के वैज्ञानिक अभिषेक आनंद ने 5 दिन के मौसम का पूर्वानुमान जारी करते हुए कहा कि मंगलवार से ही साइक्लोनिक सर्कुलेशन था, जो अभी भी अरब सागर में मौजूद है. इसी के असर से झारखंड के आसमान में बादल छाये रहे. दो दिन तक आसमान में बादल रहेंगे. 20 नवंबर को हल्की बारिश होगी और उसके बाद दो दिन मौसम साफ रहेगा.
तेलंगाना और छत्तीसगढ़ में न्यूनतम तापमान में आयेगी गिरावट
तेलंगाना,छत्तीसगढ़ में आज से न्यूनतम तापमान में आयेगी गिरावट. क्योंकि उत्तर से आने वाली हवाओं का असर आज या 20 नवंबर से यहां दिखना शुरू हो जायेगा.
ओडिसा के ऊपर बना एंटी साइक्लोन सर्कूलेशन
ओडिसा के ऊपर बन रहे एंटी साइक्लोन सर्कूलेशन के कारण बंगाल की खाड़ी से आद्र हवाएं उठ रही हैं इसके प्रभाव से छत्तीसगढ़, झारखंड बिहार और महाराष्ट्र के विदर्भ में हवाओं में नमी बनी रहेगी. कहीं कही पर बादल छाये रह सकते हैं.
उत्तर भारत में बढ़ेगी कड़ाके की ठंड
उत्तर भारत के पहाड़ों से सर्द हवाएं अपने साथ बर्फ की ठंडक लेकर आयेगी. इसके कारण उत्तर भारत में समय में पहले की कड़ाके की ठंड शुरू हो जायेगी.
उत्तर भारत के पहाड़ी क्षेत्रों में बढ़ेगी ठंड
उत्तर भारत के पहाड़ी क्षेत्रों में दिन में कड़ाके की ठंड के साथ शीतलहर चलने वाली है. इसके साथ ही आनेवाले दिनों में इन क्षेत्रों के न्यूनतम तापमान में भी भारी गिरावट होने की संभावना है. इस तरह के हालात अगले सप्ताह भी रहेंगे. क्योंकि 22 नवंबर के बाद एक नया और सक्रिय पश्चिमी विक्षोभ उत्तर भारत के पहाड़ों पर फिर से दस्तक देने वाला है.
निचले इलाकों में हो सकती है बारिश
19 नवंबर को मध्यम और ऊंचाई वाले पर्वतीय क्षेत्रों में बर्फबारी होने की संभावना है जबकि निचले इलाकों में वर्षा की गतिविधियां देखने को मिल सकती हैं. इसके बाद 48 घंटों का एक ब्रेक मिलेगा और 48 घंटे के बाद फिर से नया मौसमी सिस्टम दस्तक दे सकता है.