शुक्र का राशि परिवर्तन – होगा इन राशियों को लाभ, बाकी राशियों को रहना होगा सावधान

Scn news india

17 नवंबर को कन्या से तुला राशि में प्रवेश कर लिया है। अब शुक्र 11 दिसंबर तक इसी राशि में रहेंगे। इसके बाद वृश्चिक राशि में प्रवेश करेंगे। तुला राशि का स्वामी शुक्र ही है इसलिए तुला राशि वालों के लिए शुक्र का यह गोचर  विशेष रूप से शुभ रहने वाला है। कर्क, कन्या, तुला और धनु राशि वालों को शुक्र के राशि परिवर्तन से धन लाभ हो सकता है।

बारह राशियों पर इस राशि परिवर्तन का शुभ-अशुभ प्रभाव पड़ेगा तो ऐसे में हमारे लिए यहां यह जानना जरूरी हो जाता है कि किस राशि पर क्या और कैसा असर पड़ेगा। जिससे हमारे लिए आसान हो जाता है और हम पहले से जानकर सावधान रह सकते हैं।

वृष  – इस राशि के सातवें भाव में शुक्र गोचर करेंगे। कुंडली में सातवां भाव वैवाहिक जीवन, जीवनसाथी और जीवन के कई महत्वपूर्ण फैसलों पर आधारित होता है। यह गोचर आपके जीवन में नए बदलाव लेकर आएगा जो आपको शुभ फल की प्राप्ति कराएंगे। आपके कार्यक्षेत्र और करियर पर इसका असर हो सकता है। यदि आप कोई नया व्यवसाय या अपना कोई पुराना अधूरा कार्य शुरू करना चाहते हैं तो उसके लिए समय बेहतर है। नौकरी बदलने के बारे में सोच रहे लोगों को भी फायदा हो सकता है। आर्थिक रूप से पूरा एक महीना आपके लिए लाभकारी सिद्ध होगा।

वृषभ – शुक्र आपकी राशि से छठे भाव में गोचर करेगा। शत्रु आप पर हावी रहेंगे, जिससे आपका कार्य भी प्रभावित होगा। आप कार्य पूरा करने में असफल रहेंगे। किसी भी तरह के विवाद और झगड़े से खुद को दूर रखें। यात्राएं करने से बचें। किसी दूसरे व्यक्ति से वाहन मांगकर न चलाएं। शत्रुओं से सावधान रहने की जरूरत है। आप उनके जाल में आसानी से फंस सकते हैं जिससे आपको नुकसान उठाना पड़ सकता है। नौकरी अभी बदलने की मत सोचिएगा क्योंकि इससे आपको नुकसान हो सकता है।

मिथुन – इस राशि के पंचम भाव में शुक्र प्रवेश करेंगे। कुंडली में इस भाव को, संतान भाव के नाम से भी जाना जाता है। इस भाव से रोमांस, संतान, रचनात्मकता, बौद्धिक क्षमता, शिक्षा एवं नए अवसरों को देखा जाता है। ऐसे में गोचर की इस अवधि में, आपको बहुत ही ज्यादा अनुकूल परिणामों की प्राप्ति होगी।  आपमें प्रेरक और रचनात्मक शक्ति का विकास होगा। जो लोग नौकरी करते हैं और किसी बड़े अवसर का इंतजार कर रहे हैं, उन्हें इस समय भाग्य का साथ मिलेगा। भाग्य का पूरा साथ मिलेगा। यदि आप नौकरी में प्रमोशन चाहते हैं तो वह भी इस वक्त आपको मिल सकता है।

कर्क – इस राशि से चौथे भाव में शुक्र का गोचर हो रहा है। ये कुंडली का सुख का भाव माना जाता है। इस गोचर का कर्क राशि पर शुभ प्रभाव पड़ेगा। धन वृद्धि के साधन खुलेंगे और रुके हुए कार्य भी बनने लगेंगे। यदि आपकी माता की तबीयत लंबे वक्त से खराब चल रही है तो इस दौरान उसमें सुधार देखने को मिलेगा। कोई नया वाहन खरीदने के योग बन रहे हैं। प्रेम जीवन के लिए यह गोचर शुभ रहेगा। जीवनसाथी से भरपूर सहयोग मिलेगा साथ ही आप लंबी छुट्टियों पर भी जा सकते हैं। अपनी सेहत को लेकर सचेत रहें क्योंकि आपकी सेहत बिगड़ सकती है। खाने की आदतों पर ध्यान दें और उन्हें सुधारें भी।

सिंह -सिंह राशि के तीसरे भाव में गोचर हो रहा है। यह कुंडली का सहज भाव है। आपको किसी भी कार्य को पूरा करने में भरपूर सफलता प्राप्त होगी। शुक्र के गोचर का प्रभाव आपको अपने विचारों को दूसरों के सामने सही से प्रकट करने में मदद करेगा। आपको सहयोगियों का पूरा साथ मिलेगा और आप अच्छी तरह से अपना कार्य समय पर पूरा कर सकेंगे।इस दौरान आपके लिए शुक्र का यह गोचर, शुभ साबित होगा। इस दौरान आपको भाग्य का पूरा साथ मिलेगा। यदि आप लंबे वक्त से धन संबंधी परेशानी से जूझ रहे हैं तो आपको इससे निजात मिलने वाली है। अचानक धनलाभ भी हो सकता है या रुका हुआ धन भी वापस आ सकता है।

कन्या –शुक्र कन्या राशि के दूसरे भाव में गोचर कर रहे हैं। यह गोचर आपके लिए अनुकूल रहने वाला है। इस समय आर्थिक जीवन में आपको भरपूर सफलता मिलेगी। जिससे आपको अच्छा धन लाभ होगा। परिवार के प्रति जागरूक नजर आएंगे। आप घर के सदस्यों के साथ समय बिताते और उनका सहयोग करते भी दिखाई देंगे। परिवार में सकारात्मक वातावरण देखने को मिलेगा। पारिवारिक जीवन में आप अपने परिवार के प्रति, जागरूक नजर आएंगे। इसके लिए आप घर के सदस्यों के साथ समय बिताते और उनका सहयोग करते भी दिखाई देंगे। शुक्र देव की कृपा से व्यापारियों को धन कमाने के अच्छे अवसर प्राप्त होंगे।

तुला- शुक्र गोचर करते हुए आपके प्रथम भाव में स्थित होंगे इसलिए गोचर का यह समय आपके लिए विशेष रूप से प्रभावशाली रहेगा। नौकरी-कारोबार में नए अवसर मिलेंगे। कार्य क्षेत्र में पदोन्नति और अच्छा मुनाफा होगा। निवेश से लाभ होगा। सहयोगियों से मदद मिलेगी। इस गोचर के दौरान बड़ा निवेश करना आपके लिए बेहद फायदेमंद रहेगा। कार्य की शुरुआत में कुछ बाधाएं आ सकती हैं, लेकिन समय धीरे-धीरे सब ठीक कर देगा। राशि स्वामी शुक्र समस्याओं को खत्म करेगा।

वृश्चिक – शुक्र आपके द्वादश भाव में रहेंगे। आपको किसी यात्रा पर जाने का अवसर मिल सकता है कार्यक्षेत्र में विदेशी स्रोतों से अच्छा लाभ मिलने की संभावना है। नौकरी पेशा जातकों के लिए भी समय अच्छ ही रहने वाला है। नौकरी में नए अवसर प्राप्त हो सकते हैं। कार्यक्षेत्र में आपकी प्रदर्शन से सीनियर खुश रहेंगे। जरूरी कामों में समस्याओं का सामना करेंगे। व्यर्थ खर्च करने से बचें। अध्यात्मिकता की ओर मन लगेगा।

धनु – गोचर की इस अवधि में वे आपकी राशि से एकादश भाव में गोचर करेगा। कुंडली में एकादश भाव को आमदनी का भाव कहा जाता है। नौकरी में पदोन्नति मिल सकती है। आर्थिक लाभ मिल सकता है। आपका काम देखकर सहकर्मी भी आपसे खुश रहेंगे। यदि आप बिजनेस करते हैं तो शुक्र देव आपको अच्छा मुनाफा कमाने के अवसर प्रदान करेंगे।आपके कामों में बढ़ोतरी हो सकती है। धन की प्राप्ति होगी। खुशियां मिलेंगी। रिश्तेदारों से शुभ समाचार मिल सकता है। रुके कार्यों में गति आएगी।

मकर – शुक्र आपके दशम भाव में गोचर करेंगे। ये समय आपके लिए थोड़ा कठिन हो सकता है। कार्यक्षेत्र पर बहुत ज्यादा परेशानी महसूस करेंगे। तनाव में वृद्धि होगी। सहकर्मियों या वरिष्ठ अधिकारियों से विवाद या झगड़ा भी हो सकता है। क्रोध को शांत रखने से आपकी मुश्किलें कुछ कम हो सकती हैं। परिवार के साथ सुखी दिन व्यतीत होंगे। आय में बढ़ोतरी हो सकती है। विवादों का अंत होगा।

कुंभ – शुक्र देव आपकी राशि से नवम भाव में जाएंगे। आपको अपनी मेहनत के अनुसार ही फलों की प्राप्ति होगी। यदि आप नौकरी बदलने के बारे में सोच रहे हैं तो समय उत्तम है। आपको अपनी इच्छा अनुसार कार्य करने का भरपूर मौका मिलेगा। किसी भी कार्य को एकाग्रता के साथ पूरा करेंगे। आपके कार्यों में आ रही समस्याएं अब हट सकती हैं। शुक्र नए काम करने में मदद करेगा। परिवार के साथ रहने का मौका मिलेगा।

मीन – इस गोचर की अवधि में शुक्र आपके अष्टम भाव में प्रवेश करेगा। मीन राशि वाले जातकों को इस दौरान मिश्रित फलों की प्राप्ति होगी। सेहत के लिहाज से मीन राशि वाले जातकों के लिए समय थोड़ा कष्टदायक रहेगा। हालांकि कार्यक्षेत्र में मन लगाकर काम करेंगे। करियर में थोड़ी बाधा भी महसूस हो सकती है। आर्थिक पक्ष ठीक रहेगा, लेकिन खर्चें बढ़ेंगे।बाधाएं उत्पन्न हो सकती हैं। आपके ऊपर नकारात्मकता हावी हो सकती है। बुद्धिमानी से कार्य पूरे करने में सफल मिल सकती है।

internet