प्रतिवर्ष अनुसार भाई दूज पर पूजन पाठ कर भंडारा प्रसादी वितरण की गई

Scn news india

शाहपुर – द्वितीया तिथि को भ्रातृ द्वितीया भाई-बहन का पर्व माना जाता है। उस दिन भाई बहन के यहां जाकर बहन के हाथ का भोजन करना श्रेयस्कर माना जाता है हिंदू समाज में भाई-बहन के अमर प्रेम के दो ही त्योहार हैं पहला रक्षा बंधन जो श्रावण मास की पूर्णिमा को आता है तथा दूसरा भाई दूज जो दीपावली के तीसरे दिन आता है दीपावली के पांच दिन चलने वाले महोत्सव में भाई दुज भी शामिल है ‘भाई दूज’ उत्सव भाई दूज को यम द्वितीया भी कहते हैं प्रतिवर्ष अनुसार ग्राम भयावाड़ी पोसेरा स्थित बजरंग मंदिर में भाई दुज पर सुन्दर कांठ का पाठ कर विधि विधान से पूजन करते हुए ध्वज चड़ाया व भंडारा प्रसादी बांटी गई जिसमें मंदिर के पुजारी श्रीपत वर्मा,प्रीतम वर्मा,सावन चौरे,रामकिशोर कुदारे,विनोद उइके,गणेश पटेल,रामभरोस झल्लारे,आकाश कुदारे,आशीष चौरे,उमाकांत वर्मा, संदीप उपराले और बड़ी संख्या मे लोग उपस्थित हुए।