मजदूरों के बच्चों का शोषण रोकने प्रशासन की पहल- जिले से अन्य राज्यों में जाने वाले मजदूरों के बच्चों का डाटाबेस तैयार होगा

Scn news india

अलकेश साहू 

बैतूल- जिले से अन्य राज्यों में मजदूरी हेतु जाने वाले मजदूरों के बच्चों का एक विस्तृत डाटाबेस तैयार किया जाएगा। इस डाटाबेस के आधार पर इन मजदूरों के बच्चों को शैक्षणिक सुविधाओं की उपलब्धता सुनिश्चित की जाएगी। साथ ही इस बात पर नजर रखी जाएगी कि नाबालिग बच्चों का अन्य राज्यों में किसी तरह का शोषण न हो सके। उक्त निर्णय सोमवार को कलेक्टर श्री राकेश सिंह की अध्यक्षता में आयोजित जिला बाल संरक्षण समिति की बैठक में लिया गया। बैठक में पुलिस अधीक्षक सुश्री सिमाला प्रसाद, प्रधान मजिस्ट्रेट किशोर न्याय बोर्ड श्रीमती सुनीता ताराम, अपर कलेक्टर श्री जेपी सचान एवं समिति सदस्यगण उपस्थित रहे।
बैठक में निर्णय लिया गया कि जिले से मजदूरी हेतु अन्य राज्यों में जाने वाले मजदूरों के परिवार दीपावली त्यौहार पर अपने घर लौटेंगे, इस दौरान महिला एवं बाल विकास विभाग के सहयोग से इन परिवारों का बिन्दुवार सर्वेक्षण करवाया जाएगा। साथ ही इस बात के लिए तैयारी की जाएगी कि मजदूरों को बच्चों को शैक्षणिक सुविधा, छात्रावास इत्यादि उपलब्ध कराकर उनको पढ़ाई की मुख्य धारा से जोड़ा जा सके। स्कूल से ड्रॉप-आउट बच्चों की जानकारी भी इस सर्वेक्षण में समाहित होगी। बैठक में कलेक्टर श्री सिंह ने बालकों को सर्वशिक्षा अभियान से जोडऩे एवं संरक्षण की आवश्यकता वाले बच्चों को छात्रावास में प्राथमिकता से प्रवेश दिए जाने हेतु निर्देश दिए गए।
पुलिस अधीक्षक सुश्री सिमाला प्रसाद ने बैठक में बताया कि जिले के प्रत्येक थाने में बाल हितैषी वातावरण तैयार करने के उद्देश्य से चाइल्ड फ्रेंडली कॉर्नर तैयार किया गया है, जहां कोई भी परिवार अथवा व्यक्ति आकर बच्चों से संबंधित जानकारी शेयर कर सकते हैं। बच्चों का किसी तरह का शोषण न हो, इस बात की जानकारी संकलित करने की भी इन कॉर्नर्स पर व्यवस्था की गई है।
बैठक में प्रधान मजिस्ट्रेट किशोर न्याय बोर्ड श्रीमती सुनीता ताराम द्वारा संस्थाओं में निवासरत बालकों हेतु कौशल विकास के लिए प्रशिक्षण दिए जाने एवं शासकीय बाल संप्रेक्षण गृह में खेल मैदान में उचित व्यवस्था करने हेतु निर्देश दिए गए। बैठक में जिला बाल संरक्षण ईकाई, किशोर न्याय बोर्ड, बाल कल्याण समिति, जिले में संचालित बाल देखरेख संस्थाओं एवं चाइल्ड लाइन की समीक्षा की गई। बैठक में जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास श्री बीएल विश्नोई भी उपस्थित थे।