तवा वन खदान से सतपुड़ा जलाशय की तरफ बह रहा कोयला, अवैध उत्खनन भी ज़ारी

Scn news india

आशीष उघड़े 

वेस्टर्न कोलफील्ड लिमिटेड कंपनी की सतपुड़ा जलाशय के पास स्थित तवा वन खदान से कोयला पानी के साथ बहकर सतपुड़ा जलाशय पहुंच रहा है। हालत यह है कि एक तरफ प्रदूषित पानी जलाशय में मिल रहा है वहीं दूसरी तरफ तवा वन खदान के सामने वाले नाले में भारी मात्रा में कोयला जमा हुआ है।
वेस्टर्न कोलफील्ड लिमिटेड कंपनी द्वारा खदान से कोयला बाहर ना आए इसके लिए उपाय किए गए हैं परंतु ठीक तरह से देखभाल ना होने के चलते कोयला लगातार पानी के साथ बहकर सतपुड़ा जलाशय की तरफ आ रहा है।

भारी मात्रा में कोयला जमा होने की वजह से पिछले लगभग 1 महीने से उक्त क्षेत्र से कोयले का अवैध उत्खनन ट्रैक्टर ट्रालियों के माध्यम से किया जा रहा है । जिस पर ना तो वेस्टर्न कोलफील्ड कंपनी के माध्यम से कोई कार्यवाही की जा रही है ना ही सारणी पुलिस के माध्यम से कोई कार्यवाही की जा रही है।
कोयले के अवैध उत्खनन के मामले में खनिज विभाग भी कोई कार्यवाही करता हुआ नजर नहीं आ रहा है।

वेस्टर्न कोलफील्ड लिमिटेड के माध्यम से उक्त कोयला उठाकर वापस खदान के क्षेत्र में लाया जा सकता है, परंतु इस तरह का कोई कार्य उन के माध्यम से नहीं किया जा रहा है जिसका फायदा उठाकर कोयला तस्कर सरकारी कोयला चुराने में लगे हुए हैं।

किसी भी संबंधित विभाग के माध्यम से कार्यवाही ना करने के चलते शासन को नुकसान हो रहा है वहीं क्षेत्र में चल रहे अवैध उत्खनन को बढ़ावा मिल रहा है। कोयले का अवैध उत्खनन करने वाले ट्रैक्टर ट्राली में कोयला भरने के बाद उसके ऊपर घास या रात भर देते हैं जिससे यह ना पता लग सके कि ट्रॉली के अंदर कोयला है हालांकि इस पूरे मामले से प्रशासन अवगत है परंतु फिर भी कोई कार्यवाही नहीं की जा रही है। वही ट्रैक्टर ट्राली चालक चोरी पकड़ी ना जाए इसके चलते तेज रफ्तार ट्रैक्टर चला रहे हैं जिससे क्षेत्र में कभी भी हादसे की आकांक्षा बनी हुई है।