रेल कर्मचारियो ने पी एल बोनस के लिए सरकार को दिया अल्टीमेटम थम सकते हैं रेल के पहिये

Scn news india

दिलीप पाल 

भारतीय रेल ना कभी रुकी, ना कभी रुक सकती है कोरोना वायरस (कोविड19) जैसी विश्वव्यापी महामारी में भी भारतीय रेल के कर्मठ रेल कर्मचारियों ने दिन-रात परिश्रम करते हैं, भारतीय रेल को सकुशल एक स्थान से दूसरे स्थान चलाया जिससे महामारी काल में भी लोगों को दिनचर्या के सारे सामान उपलब्ध हो सके। इस दौरान भारतीय रेल में लगभग 300 से अधिक कर्मचारी रेल सेवा देते हुए शहीद हो गए। लेकिन रेल कर्मचारियों ने भारतीय रेल की आन-बान-शान में कोई कमी ना आने दी, इसका ताजा परिणाम यह निकला कि भारतीय रेल की आय 2019-20 में माल-ढुलाई से 25% तक बढ़ गई। लेकिन जब रेल कर्मचारियों को बोनस देने की बारी आई तो भारत सरकार के पीएल बोनस ना देने का रवैया अपना रही है।

जिसके कारण नेशनल फेडरेशन अॉफ इंडियन रेलमेन के जनरल सेक्रेटरी माननीय एम रघवैया जी ने अपने सभी संबंधित रेलवे मजदूर संघ महामंत्रियों को पत्र लिखा है अगर भारत सरकार रेल कर्मचारियों के पीएल बोनस के लिए दिनांक 20 अक्टूबर 2020 से पहले घोषित नहीं करती है तो एनएफआईआर संबंधित सभी रेल मजदूर संगठन के महामंत्रियों अपने जोन,मंडल, डीपो सभी स्तर पर विशाल रैलियों का आयोजन कर मौजूदा सरकार को अपनी एकता का परिचय देते हुए पीएल बोनस का जल्द से जल्द भुगतान करने बाध्य करना हैं। अगर फिर भी वह बात नहीं मानते हैं तो हड़ताल का नोटिस देकर सभी रेल कर्मचारी हड़ताल पर जाएंगे।
साथियों अब समय आ गया है कि सरकार को बताना होगा कि हम एक हैं और अब हम पीएल बोनस लेकर रहेंगे। इसलिए सेंट्रल रेलवे मजदूर संघ, आमला अपने सभी रेल कर्मचारियों से अनुरोध करती है कि अगर 20 अक्टूबर से पहले पी एल बोनस की घोषणा नहीं होती है तो आमला डिपो के सभी रेल कर्मचारी, रेलवे स्टेशन आमला पर दिनांक 20 अक्टूबर 2020 को आयोजित रैली में अधिक से अधिक संख्या में पहुंचे।