मां शक्ति का अनोखा मंदिर, दिन में तीन बार रूप बदलती हैं देवी आमला ब्लाक के छावल गांव में स्थित मां शक्ति का चमत्कारी मंदिर

Scn news india

दिलीप पाल
आमला। बैतूल जिले में आदि शक्ति मां भगवती का ऐसा एक अनूठा मन्दिर स्थित है, जहां मां भगवती दिन में तीन बार रूप बदलती हैं. जिला मुख्यालय से 40 किमी की दूरी पर छावल गांव में स्थित मां रेणुका का मंदिर भक्तों की आस्था का केंद्र है। मंदिर का इतिहास लगभग 450 साल पुराना बताया जा रहा है. छोटी सी पहाड़ी पर बने इस मन्दिर में मां रेणुका की अनोखी मूर्ति विद्यमान है।
मान्यता है कि यहां स्थित मन्दिर में एक दिन में देवी तीन रूप परिवर्तित करती हैं. आमला ब्लॉक के 10 किमी दूर स्थित छावल गांव में मां के इस धाम को छावल के नाम से भी पहचाना जाता है। स्थानीय मान्यता के मुताबिक, मां रेणुका की मूर्ति सुबह से लेकर शाम होने तक तीन रूप में दिखाई देती हैं. मां रेणुका सुबह नन्हीं बालिका के स्वरूप में दर्शन देती हैं, दोपहर में मां के चेहरे का तेज बढ़ जाता है। शाम के समय मां रेणुका ममतामयी सौम्य करुणा के रूप में नजर आने लगती हैं.

कथाओं के मुताबिक पहाड़ी पर बना यह मन्दिर तकरीबन 450 साल पुराना है। मां रेणुका की जो मूर्ति मन्दिर में स्थापित है, वह यहीं से प्रकट हुई थी। मन्दिर के शुरू से लेकर अब तक गोस्वामी परिवार ही यहां पूजा करता चला आ रहा है. गोस्वामी परिवार की यह पांचवीं पीढ़ी है, जो मन्दिर के देखभाल का भी काम करती है। नवरात्री के समय यहां पर भक्तों की भीड़ लगी रहती है। हालंाकि इस नवरात्र पर समिति द्वारा भक्तों के दर्शन के लिए क्या व्यवस्था होगी। बैठक में तय होगा। आखिर जो भी पर मां शक्ति का यहां पर अद्भूत रूप देखने को मिलता है जो किसी चमत्कार से कम नहीं है। यहां पर प्रदेश भर से लोग पहुंचते हैं। मां शक्ति का स्वरूप आलौकिक और अद्भूत नजर आता है। यहां पर माथा टेकते ही भक्तों की हर मनोकामना पूर्ण हो जाती है।