नियम कानून को ताक पर रखकर दिव्यांग की जमीन पर दबंगों ने किया अवैध कब्जा भूमि प्रकरण मामले में न्यायालय के आदेश की हो रही अवहेलना, कलेक्टर से शिकायत

Scn news india

आशीष उघडे
बैतूल। नियम कानून को ताक में रखकर दबंगों द्वारा जमीन को हथियाने के अनेक मामले उजागर हो चुके है। अब ऐसे मामले शहर के आसपास के अंचल में भी बढ़ने लगे है। इसका ताजा उदहारण बाबा मठारदेव वार्ड क्रमांक 1 पाथाखेड़ा सारणी तहसील घोड़ाडोंगरी में देखने को मिला है, जहां एक दिव्यांग की जमीन पर दबंगों द्वारा अवैध कब्जा कर लिया गया।
हैरत की बात यह है कि इस भूमि मामले में न्यायालय के स्पष्ट आदेश के बावजूद अनावेदक लीलावती पति बालम सिंह मरकाम द्वारा आदेशों और निर्देशों का खुला उल्लंघन किया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि उक्त प्लाट का भू-स्वामी दोनो पैरो से विकलांग होने की वजह से कहीं भी आने जाने मे असमर्थ है। इसलिए एक ही गांव के निवासी होने के नाते उक्त प्लाट की देख रेख के लिए पॉवर ऑफ अटार्नी अशोक पिता भैयालाल पचौरिया नि.वार्ड नं .1 पाटाखेड़ा सारनी तह . घोड़ाडोंगरी को दी गई।
इसकी शिकायत अशोक पचौरिया ने कलेक्टर से की है। श्री पचौरिया ने कलेक्टर को प्रेषित किए शिकायत आवेदन में उल्लेख किया है कि आवेदक के स्वामित्व की भूमि प.ह.नं. 45 ब.नं. 424/1 में खसरा नं . 33/15 मौजा पाटाखेडा वार्ड नं .1 में स्थित है। उक्त भूमि का स्वामी मुन्नालाल पिता जुगरू तुमराम है। अनावेदक द्वारा आवेदक के स्वामित्व की उक्त भूमि पर फर्जी तरीके से शासन को धोखा देकर अवैध रूप से फर्जी रजिस्ट्री कर ली गई।
–स्टांप ड्यूटी की चोरी कर शासन को दिया धोखा–
अनावेदक द्वारा उक्त भूमि को ग्रामीण भूमि होना बताकर स्टॉप्प डयूटि चोरी कर एवं रिक्त आवासीय भूमि को कृषि भूमि बताकार अन्य किसी स्थान की फोटो लगाकर शासन को धोखा देते हुए एवं राजस्व हानी पहुचाने कि नियत से फर्जी रजिस्ट्री की गई। अनावेदक गणों ने आवेदक के स्वामित्व की उक्त भूमि पर अवैध कब्जा कर लिया।
–जांच में सिद्ध हुआ स्टांप ड्यूटी चोरी–
आवेदक द्वारा उक्त भूमि कि फर्जी रजिस्ट्री एवं राजस्व चोरी कि शिकायत कलेक्टर, रजिस्ट्रार, अनु.अधि राजस्व शाहपूर, तहसीलदार घोड़ाडोंगरी एवं पुलिस थाना सारनी में की गई। उक्त शिकायत पर राजस्व विभाग द्वारा संज्ञान लेते हुए न्यायालय तहसीदार द्वारा न्यायालयीन कार्यवाही करते हुए प्रकरण दर्ज किया एवं जॉच मे अनावेदकगणो द्वारा फर्जी रजिस्ट्री करवाना एवं स्टाम्प ड्यूटी चोरी करना सही पाया गया। न्यायालय तहसीलदार द्वारा मौका निरिक्षण में उक्त भूमि रिक्त नही पायी गई एवं न ही उक्त भूमि कृषि भूमि पायी गई, जबकि उक्त भूमि पूर्व से ही आवसीय भूमि होना पाया गया जिस पर कि पूर्व से ही आवासीय मकान बने हुए पाए गए। उक्त भूमि पर खसरा नं . 33/15 रिक्त होना पाया गया जो कि एक आवसीय प्लाट है जिस पर पूर्व से ही आवेदक का कब्जा काबिज रहा है जिस पर आवेदक की माता के स्वर्गवास के स्मृति में समाज कल्याण के उददेश्य से शासकिय चिक्तिसालय बैतूल के सहयोग से ब्लड डोनेशन कैम्प करवाया गया एवं समाज के गणमान्य नागरिको तथा समाजसेवको एवं गणमान्य नागरीको द्वारा पेड़ पौधे लगाए गये।
–अवकाश के दिन किया अवैध कब्जा–
अनावेदक ने फर्जी रजिस्ट्री करने के साथ-साथ उक्त भूमि पर जानबूझकर अवकाश के दिन शनिवार एवं रविवार का फायदा उठाते हुए अपना अवैध कब्जा जमाया गया। उक्त भूमि पर लगाये गये पेड़ पौधो एवं ट्री गार्ड को जानबूझकर उखाड़कर फेक दिया गया तथा अपनी बागुड बना ली गई।
–जमीन विवाद की आड़ में कर दी छेड़छाड़ की शिकायत–
अनावेदक ने अपनी जाति एवं महिला होने का नजायज फायदा उठाते हुए जान बूझकर आवेदक पर तहसील कार्यालय में सार्वजनिक स्थान पर झूठा छेड़छाड़ करने एवं अंगवस्त्रो को छूने तथा सार्वजनिक स्थान तहसील कार्यालय परिसर में गंदी गालिया देने का झूठा आरोप लगाते हुए पुलिस चौकी घोडाडोंगरी, स्थानीय पुलिस थाना सारनी में बदला लेने की नियत से झूठी शिकायत की। आवेदक द्वारा एसपी को अनावेदक द्वारा की गई झूठी शिकायत करने की शिकायत की गई जिस पर एसपी द्वारा कार्यवाही करते हुए घोड़ाडोंगरी पुलिस चौकी द्वारा प्रकरण की जाँच करवाई गई जिसमे अनावेदक द्वारा जमीन विवाद की आड में जानबूझकर छेड़छाड कि झूठी शिकायत करना पाया गया। रजिस्ट्रार द्वारा आवेदक की शिकायत पर कार्यवाही करते हुए जॉच करवाई गई जिसमे आवसीय भूमि को कृषि भूमि होना एवं अन्य भूमि की फोटो लगाकर स्टाम्प ड्यटी की चोरी करना सही पाया गया एवं रजिस्ट्रर द्वारा अनावेदक को दण्डित करते हूए अतिरिक्त स्टाम्प ड्यूटी वसूल की गई।
–नियम कानून को ताक पर रखकर किया अवैध निर्माण–
अनावेदक लीलावति पति बालम सिंग मरकाम द्वारा न्यायलय तहसीलदार के आदेश का उल्लंघन करते हुए, प्रकरण न्यायालय तहसीलदार में विचारधीन होने एवं तहसीलदार द्वारा अनावेदक को किसी भी प्रकार का निर्माण एवं कब्जा नहीं करने का निर्देश दिये जाने के बावजूद भी अनावेदक द्वारा माननीय न्यायालय तहसीलदार के आदेश एवं निर्देशो की अवमानना कर अवैध कब्जा कर लिया गया।अनावेदक द्वारा पूर्व में भी उक्त प्लाट पर 10 फीट चौड़े रास्ते पर भी अवैध कब्जा कर उक्त रास्ते की किसी भी प्रकार की रजिस्ट्री नहीं होने के बावजूद भी अवैध रूप से बाउंड्री एवं मकान बना लिया गया। शिकायतकर्ता ने अनावेदक पर उचित न्यायिक कार्यवाही करते हुए एक विकलांग असहाय व्यक्ति के प्लाट पर अनावेदक लीलावती पति बॉलम सिंह मारकाम ( शास.शिक्षिका ) का अवैध कब्जा हटाने की मांग की है। साथ ही न्यायालय तहसीलदार के आदेशो व निर्देशो का उल्लंघन करने पर कड़ी कानूनी कार्रवाई करने की भी मांग की है।