तालाब निर्माण में हो रहा भ्रष्टाचार, ग्राम पंचायत पिपरिया में सचिव की मनमानी, मजदूरों की जगह चल रहे जेसीबी

Scn news india

आशीष वर्मा
अनूपपुर। जिला मुख्यालय के करीबी ग्राम पंचायत पिपरिया में बन रहे तालाब में जमकर भ्रष्टाचार हो रहा है। पंचायत सचिव अमित पटेल व सरपंच जुगती बाई मिलकर पंचायत की राषि का बंदरबांट कर रहे हैं। ग्राम पंचायत के ग्राम बेला में लगभग ढ़ाई लाख की लागत से लघु तालाब का निर्माण कार्य कराया जा रहा है। जिसमें मजदूरों की जगह जेसीबी से काम कराया जा रहा है। जबकि पंचायत में मनरेगा व पंच परमेष्वर से होने वाले तालाब निर्माण में मषीनरी का प्रयोग नहीं कर सकते। लेकिन पंचायत सचिव हैं कि मनमानी करते हुये जेसीबी मषीन का प्रयोग करते नजर आ रहे हैं।


पंचायत में बन रहे लघु तालाब में चल रहे जेसीबी मषीन व मजदूरों से काम की दूरी को देखकर साफ जाहिर होता है कि यहां पर पदस्थ सचिव व सरपंच अपनी मनमानी करते हुये नजर आ रहे हैं। गौरतलब है कि कोविड-19 के इस दौर में लाॅकडाउन में शासन द्वारा मजदूरों को अधिक से अधिक पंचायतों में रोजगार उपलब्ध कराने की बात कही गई है लेकिन ग्राम बेला में बन रहे तालाब में मजदूर की जगह जेसीबी के रोजगार मिला हुआ दिखाई दे रहा है ।

मजदूरों की जगह चल रही मशीन 
ग्राम बेला में बन रहे लघु तालाब में यंू तो मजदूरों से काम कराया जाना चाहिये था लेकिन वहां पर पदस्थ सचिव अमित पटेल अपनी मनमानी करते हुये जेसीबी मषीन से काम करवा रहे हैं। ऐसे में ग्राम के मजदूरों को योजना का सही लाभ नहीं मिल पा रहा है। मजदूरों को रोजगार तो दूर की बात उनको किसी भी प्रकार से लाभ नहीं मिल पा रहा है।
सबको मैनेज करने की बात करते हैं सचिव
ग्राम पिपरिया में पदस्थ सचिव अमित पटेल हमेषा सबको मैनेज करने की बात करते रहते हैं। उनसे किसी भी प्रकार की बात करने पर उनके द्वारा कहा जाता है कि हमारे अधिकारी मैनेज हैं हम किसी से नहीं डरते है। अमित पटेल ऐसे ही पूर्व में कई पंचायतों में दबंगई दिखाते हुये पंचायत के कार्यों में जमकर भ्रष्टाचार करते रहे हैं।