कोलड्रिंग में शराब मिलाकर युवती के साथ किया था बलात्‍कार , रेल्‍वे के अधिकारी हुए गिरफ्तार, जेल गए

Scn news india

मनोहर

भोपाल- नौकरी का झांसा  कर कोलड्रिंग में शराब मिलाकर युवती के साथ  सामूहिक  बलात्‍कार  करने वाले दोनों रेल्‍वे के अधिकारी को  पुलिस ने गिरफ्तार कर जेलभेज दिया है।   न्‍यायालय न्‍यायिक मजिस्‍ट्रेट प्रथम श्रेणी श्री हर्षबर्द्धन सिंह रावत के समक्ष रिमाण्‍ड ड्यूटी के दौरान थाना जी.आर.पी. भोपाल द्वारा नौकरी का झांसा देकर युवती का बलात्‍कार करने वाले आरोपीगण राजेश तिवारी एवं आलोक मालवीय को पेश किया गया और न्‍यायिक अभिरक्षा की मांग की गयी । शासन की ओर से अभियोजन अधिकारी श्री देवेन्‍द्र यादव द्वारा व्‍यक्‍त किया गया कि एक जिम्‍मेदार अधिकारी होते हुए एक युवती को इस तरह झांसा देकर यौन शोषण करना गम्‍भीर अपराध है। केस डायरी के अवलोकन एवं अभियोजन के तर्को से सहमत होते हुए माननीय न्‍यायालय द्वारा आरोपीगण को दिनांक 09.10.2020 तक न्‍यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया गया।
मामले की जानकारी देते हुए एडीपीओ श्री यादव ने बताया कि दिनांक 26.09.2020 को पीडिता द्वारा थाना जी.आर.पी. भोपाल उपस्थित होकर एक लिखित आवेदन दिया गया कि वह महोबा उत्‍तप्रदेश की रहने वाली है। दिनांक 25.09.2020 को सुबह भाई के दोस्‍त के साथ भोपाल एक्‍सप्रेस से झांसी से भोपाल आई थी । पीडिता को राजेश तिवारी ने बुलाया था। पिछले दो महिने से राजेश तिवारी से पीडिता की बात हो रही थी वह राजेश को जानती थी , जब वह स्‍टेशन पहुंची तो प्‍लेट फॉर्म नं 06 पर उसे राजेश तिवारी ने बुलाया और अपनी कार से प्‍लेट फॉर्म नं 01 की तरफ डोरमेर्टी में ले आया, जहां उसने पहले से रूम बुक किया था और बोला कि तुम नहा कर तैयार हो जाओ मैं अपने सर को लेकर आता हूं जो तुम्‍हारा इन्‍टरव्‍यू लेगें और वहां से चला गया। दिन में लगभग 10 बजे राजेश अपने साथ एक व्‍यक्ति को लेकर आया साथ में कोलड्रिंग , सेव , केला और कुछ अन्‍य खाने पीने की चीजें लाया। राजेश ने पीडिता को डिस्‍पोजल में कोलड्रिंग पीने को दिया तो पीडिता ने मना किया तो वह बोला कि पीलो कोलड्रिंग है कुछ नही होगा । कोलड्रिंग पीकर पीडिता को चक्‍कर आने लगा तो पीडिता ने कहा कि उसे चक्‍कर आ रहा है वह लेटने जा रही है। और वहीं बेड पर लेट गई । दिन के करीब 01 बजे जब पीडिता की नीदं खुली तो देखा कि उसके शरीर पर एक भी कपडा नही था और वह एक सफेद कलर की चादर ओढे हुई थी तब उठकर उसने अपने कपडे पहने और 100 नं डायल कर पुलिस को बुलाया और उनके साथ थाने आई और बताया कि पीडिता को सीने और बाथरूम की जगह में दर्द हो रहा है और उसके साथ राजेश तिवारी व उसके दोस्‍त ने गलत काम किया है। जिस पर थाने द्वारा आरोपीगणो के विरूद्ध अपराध क्रमांक 241/20 अन्‍तर्गत्‍ धारा 323, 328, 376डी भादवि के अन्‍तर्गत मामला पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया। विवेचना के दौरान पीडिता ने कथन में बताया कि आरोपी राजेश जिस व्‍यक्त्‍िा को लेकर आया था वह उसे आलोक नाम से संबोधित कर रहा था। और कह रहा था कि आलोक सर तुम्‍हारी नौकरी लगवा देगें । विवेचना के दौरान पुलिस को ज्ञात हुआ कि राजेश तिवारी रेल मंडल में सेफटी काउंसलर जुनियर इंजीनियर है एवं आलोक मालवीय सीनियर सेक्‍शन इंजीनियर इलेक्ट्रिकल (मेटेंनेंस ) के पद पर पदस्‍थ है। तद्उपरांत पुलिस द्वारा आरोपीगणो को गिरफतार कर आज दिनांक को मेडिकल उपरांत न्‍यायालय में पेश किया गया। पीडिता के धारा 164 द.प्र.सं. के कथन भी माननीय न्‍यायालय में लेख कराये गये।