अत्याचार के खिलाफ आवाज – PRO पत्नी ने PRO पति के खिलाफ कराई FIR

Scn news india

मनोहर

भोपाल-प्रदेश में महिला उत्पीड़न और दहेज मामले का एक बड़ा मामला सामने आया है। जिसमे अत्याचार के खिलाफ आवाज उठाने में महिला ने अपने शिक्षित होने का प्रमाण प्रस्तुत किया है। और निःसंकोच अपने साथ हो रहे अत्याचार के लिए शिकायत भी कराई है।  शिकायत कर्ता  पत्नी भी जनसम्पर्क अधिकारी है और आरोपीत  भी जनसम्पर्क में पदस्थ  अधिकारी है। बता दे की भोपाल संभाग के जिला सीहोर जनसम्पर्क में पदस्थ महिला जनसम्पर्क अधिकारी ने मंडला में पदस्थ जनसंपर्क अधिकारी   आशीष कोटागने के ऊपर  कोतवाली पुलिस सीहोर में  शारीरिक मानसिक उत्पीड़न एवं दहेज प्रथा की धारा 498 के अंतर्गत मामला दर्ज कराया  है।जिस  मामले की जांच की कार्यवाही की जा रही है। अमूमन ऐसे मामले में महिलाये चारदीवारी में कैद हो कर खून में घूंट पी चुप रह कर सब सहन कराती है। लेकिन अनुभा जी ने जो किया वो और लोगों के लिए सबक है।

जानकारी अनुसार  मण्डला जिले में पदस्थ  सहायक जनसंपर्क अधिकारी आशीष कोटगड़ाले की सात माह पूर्व भोपाल के अयोध्या नगर निवासी अनुभा सिंह जो की वर्तमान में सीहोर ज़िला में सहायक जनसंपर्क अधिकारी के पद पर पदस्थ है की शादी 29 जनवरी 2020 को हिन्दू रीतिरिवाज के साथ भोपाल के मोटल शिराज एम पी नगर में शादी हुई थी।

पत्नी की शिकायत के अनुसार जनसंपर्क अधिकारी मंडला आशीष कोटागले अपने झूठे प्रेम जाल में फंसाकर परिजनों को राजी कर विवाह किया था विवाह के पश्चात अनुभा और आशीष घूमने उदयपुर और गोवा गए उसी दौरान आशीष ने अनुभा से उसके परिवार के बारे में और उसकी संम्पति की सारी जानकारी ली और कुछ दिनों तक सब कुछ ठीक चलता रहा फिर कुछ दिनों के बाद से ही अनुभा को मानसिक और शारीरिक प्रताड़ना करते हुए दहेज के लिए प्रताड़ित करने लगे। वही अनुभा सिंह ने पुलिस को बताया कि विवाह में 10 लाख रुपये खर्च किये थे 3 लाख रुपये नगद सोने की चैन सोने का कड़ा हीरे की अंगूठी उपहार में दिए थे। शादी के बाद से ही ससुराल बाले प्रताड़ित करने लगे और दहेज के नाम पर 20 लाख रुपये की डिमाण्ड कर परेशान किया जाने लगा और डिमांड पूरी न करने पर गाली गलौच व तलाक की धमकी दी जाने लगी।

वही अनुभा की माँ उर्मिला सिंह ने बताया कि अनुभा उनकी इकलौती बेटी है। और अनुभा के पिता शासकीय सेवक थे जो कि 15 वर्ष उनका पूर्व निधन हो गया है। विवाह के बाद दोनों पति पत्नी गोवा घूमने गए वहां  बेटी से सारी संपत्ति की जानकारी ले ली और वापस  आने के बाद दहेज के लिए मारपीट कर बेटी अनुभा को प्रताड़ित करने लगे में कई बार उनको समझाया कि मेरी एक ही बेटी है। सारी संपत्ति उसी की है। बाद में सब तुम्हारा ही तो है लेकिन वो नही माने आशीष और परिवार वाले सभी लोग 20 लाख रुपये के लिए परेशान कर मार पीट करने लगे। परेशान होकर अनुभा ने सीहोर थाने में शिकायत दर्ज कराया है।

वही सीहोर कोतवाली पुलिस ने आशीष कोटगड़ाले पिता रमेश कोटगड़ाले उम्र 32 वर्ष निवासी किन्ही तहसील खैरलांजी जिला बालाघाट वर्तमान पद सहायक संचालक जनसंपर्क मंडला एव बहन सुषमा  चौहान पति बसन्त चौहान निवासी कटंगी जिला बालाघाट के खिलाफ दहेज मांगने को लेकर 15 सितम्बर  को एफआईआर दर्ज कराई गई है वही कोतवाली पुलिस ने प्रथम द्रष्टया में मामला अपराध धारा 498 भादवि दहेज प्रतिषेध अधिनियम का पाये जाने पर अपराध कायम करते हुए विवेचना शुरू कर दी है।

सूत्रों से प्राप्त जानकारी अनुसार मंडला के सहायक जनसपंर्क अधिकारी आशीष कोटगड़ाले को शुक्रवार दिनाक 25 /09/2020 को सीहोर कोतवाली पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार करते हुए न्यायालय में पेश किया गया है।