20वीं सदी के विलक्षण विचारक थे दीनदयाल उपाध्याय-कमलेश सिंह

Scn news india

प्रवीण मलैया ब्यूरों 

सारनी। भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा शुक्रवार को बगडोना कालोनी में पण्डित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती मनाई गई। इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए भाजपा प्रशिक्षण विभाग के प्रदेश कार्यसमिति सदस्य कमलेश सिंह ने कहा कि पंडित दिन दयाल उपाध्याय 20 वी शताब्दी के विलक्षण विचारक थे। वे गांधी जी के बाद एकमात्र ऐसे चिंतक थे जिन्होंने इस देश की आत्मा को पहचाना और और हिंदुस्तान की राजनीति को एक नई दिशा दी।डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी के निधन के बाद विषम परिस्थितियों में उन्होंने जनसंघ को खड़ा किया। भाजपा नेता ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि 100 साल बाद भी ज्यादातर लोग उन्हें सिर्फ जनसंघ के नेता के रूप में जानते हैं जबकि उनका चिंतन और दर्शन पूरे देश के लिए था। दीनदयाल जी एक दल के नही देश के चिंतक थे।

श्री हनुमान मंदिर प्रांगण में आयोजित दो बूथों के इस संयुक्त कार्यक्रम का शुभारंभ पण्डित दीनदयाल उपाध्याय के छाया चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्वलन के साथ हुआ। सभी कार्यकर्ताओं ने पुष्पांजलि अर्पित की। इस अवसर पर उपस्थित कार्यकर्ताओं एवं जन समुदाय के समक्ष पण्डित दीनदयाल जी के जीवन पर प्रकाश डालते हुए श्री सिंह ने कहा कि पण्डित जी ने जनसंघ के रूप जिस पौधे को सींचा वह भाजपा के रूप में एक विशाल वट वृक्ष बन चुका है। केंद्र और भाजपा शासित प्रदेशों में गरीब कल्याण की कई योजनाएं दीनदयाल जी की अंत्योदय की प्रेरणा से संचालित हो रही हैं।भाजपा नेता ने कहा कि कोरोना के इस संकट काल में पण्डित जी के विचार कहीं ज्यादा प्रसांगिक है। आज भारत लघु उद्योगों में उम्मीद तलाश रहा है। उन्होंने कहा कि तत्कालीन सत्ताधीशो ने यदि पण्डित जी की बात गम्भीरता से सुनी होती तो आज भारत का आर्थिक परिदृश्य कुछ और होता।

भाजपा अजा मोर्चा के जिला अध्यक्ष किशोर महोबे ने कि पण्डित जी की प्रेरणा से सभी कार्यकर्ता अंत्योदय के लक्ष्य को लेकर काम कर रहे हैं। इस अवसर पर पण्डित दीनदयाल उपाध्याय की स्मृति में पौधा रोपण कर पर्यावरण बचाने का संकल्प लिया गया। कार्यक्रम में माखन लाल दढोरे,प्रताप सिंह रघुवंशी,रामजन्म सिंह,,प्रकाश चौरे,सुरेश घिंडोडे,सुरेश मालवीय,लोकेश साहू,जय सिंह ठाकुर,नरेश बारंगे सहित कई लोग मौजूद थे। कार्यक्रम का संचालन किशोर महोबे एवं आभार प्रदर्शन बूथ अध्यक्ष सुरेश रघुवंशी ने किया।