सच्चे संकल्प से किये गये सुपोषण के प्रयास सफल होंगे – पूर्व मंत्री राजेन्द्र शुक्ला

Scn news india

कामता तिवारी
ब्यूरो सतना
Scn news india

रीवा- गरीब कल्याण सप्ताह के तहत 17 सितम्बर को जिले भर में बच्चों तथा महिलाओं का पोषण स्तर बढ़ाने के लिये जन जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिला स्तरीय कार्यक्रम कलेक्ट्रेट के मोहन सभागार में आयोजित किया गया। समारोह में पूर्व मंत्री एवं विधायक रीवा राजेन्द्र शुक्ल ने पोषण सरकार का शुभारंभ किया। उन्होंने जिले में कुपोषण को मिटाने के लिए तैयार की गई कार्य योजना की बुकलेट का विमोचन किया। समारोह में लाडली लक्ष्मी योजना से 21 कन्याओं तथा प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना से 10 महिलाओं को लाभांवित किया गया। पूर्व मंत्री शुक्ल ने हितग्राहियों को प्रमाण पत्र हितलाभ तथा पोषण आहार एवं फल प्रदान किये।
इस अवसर पर पूर्व मंत्री श्री शुक्ल ने कहा कि बच्चों तथा महिलाओं में कुपोषण के कई कारण हैं। बच्चों तथा महिलाओं को सुपोषित करने के लिए महिला एवं बाल विकास विभाग अन्य विभागों के समन्वय से योजनायें लागू कर रहा है। सच्चे संकल्प से किये गये सुपोषण के प्रयास सफल होंगे। इसके लिए पर्याप्त संसाधन, राशि तथा विभागीय अमला उपलब्ध है। सरकार की पोषण बढ़ाने वाली योजनाओं का आंगनवाड़ी स्तर तक प्रभावी क्रियान्वयन करने से सुखद परिणाम निकलेंगे। बच्चों तथा महिलाओं के प्रति पूरी संवेदनशीलता के साथ अधिकारी-कर्मचारी योजनाओं का क्रियान्वयन करें।
पूर्व मंत्री ने कहा कि जिले से कुपोषण का कलंक मिटाने के लिए विस्तृत कार्य योजना तैयार की गई है। इसके अनुरूप विभिन्न विभागों के समन्वय से निर्धारित लक्ष्यों की पूर्ति के लिये पूरे मन से प्रयास करें। सितम्बर महीने को पोषण माह के रूप में मनाया जा रहा है। प्रधानमंत्री तथा मुख्यमंत्री ने महिलाओं एवं बच्चों के कल्याण के लिये कई योजनाओं को लागू किया है। इन योजनाओं के क्रियान्वयन में कोई कोर कसर बाकी न रखें। योजनाओं का ठीक से क्रियान्वयन होने पर स्वास्थ्य सूचकांकों में सुधार होगा। जिले में सड़क, नहर, भवन जैसी आधारभूत सुविधाओं के विकास के साथ-साथ इनसे लाभ उठाने वाले आम जन का भी सशक्त होना आवश्यक है। लोगों को घर में उपलब्ध पोषक पदार्थों से युक्त संतुलित भोजन के लिये लगातार जागरूक करें।
कार्यक्रम में रीवा संभाग के कमिश्नर राजेश कुमार जैन ने कहा कि पोषण माह में बच्चों के लिये आज पूरे प्रदेश में पैकेट बंद दूध वितरण का शुभारंभ हो रहा है। साथ ही जिला एवं ग्राम पंचायत स्तर पर विशेष ग्राम सभायें आयोजित करके सुपोषण के प्रति लोगों को जागरूक किया जा रहा है। स्वस्थ शिशु देश के विकास का आधार है। संस्थागत प्रसव, शिशुओं के सम्पूर्ण टीकाकरण, गर्भवती महिलाओं की नियमित जांच तथा अच्छा पोषण आहार देकर स्वास्थ्य सूचकांकों में सुधार किया जा सकता है। कलेक्टर डॉ. इलैयाराजा टी ने समारोह में कहा कि बच्चों तथा महिलाओं को सुपोषित करने के लिए स्थानीय स्तर पर उपलब्ध पोषक खाद्य पदार्थों तथा सब्जियों का उपयोग किया जा सकता है। इसके साथ-साथ विटामिन, प्रोटीन एवं मिनरल भी देना आवश्यक है। पोषण का स्तर बढ़ाने के लिए महिला एवं बाल विकास विभाग अन्य विभागों के समन्वय से निर्धारित कार्य योजना के अनुसार कार्य करेगा। समारोह में जनप्रतिनिधि डॉ. अजय सिंह ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री ने महिलाओं के कल्याण के लिये विशेष प्रयास किये हैं। प्रदेश भर में आज पोषण सरकार कार्यक्रम का आयोजन कर लाखों लोगों को सुपोषण के लिये जागरूक किया जा रहा है।