रमेश सिंह की लोकप्रियता से कांग्रेस, बीजेपी के प्रत्याशियों की नींद गायब

Scn news india

चंद्रमणि विश्वकर्मा 

अनूपपुर -तेजी से आसमान छूती रमेश सिंह की लोकप्रियता कांग्रेस, बीजेपी के प्रत्याशियों की नींद गायब कर दी है। रमेश सिंह, बिसाहू लाल कुल्हाडा, उमाकान्त सिंह और ममता, की यारी ताकत है और यही सफलता की कुन्जी भी।
फिर भी कई सवाल कांग्रेस की दूसरी लिस्ट में छिपे हैं मसलन-
1) क्या रमेश सिंह कमल नाथ को नाथने में सफल हो गये?
2) क्या कमल नाथ रमेश सिंह को देंगे बड़ा छटका?
3) क्या रमेश सिंह कांग्रेस की चालबाजियों को समझ चुके हैं या है उन्हें कमल नाथ पर विश्वास?
4) क्या टिकट न मिलने पर निर्दलीय लड़ेंगे उपचुनाव?
अगर रमेश सिंह को कांग्रेस टिकट नहीं देती है जैसा कि प्रदेश कांग्रेस ने ट्विट करके बताया कि अनूपपुर के प्रत्याशी चयन में कोई बदलाव नहीं होगा!
अगर ऐसा होता है तो उनके सामने अब दो विकल्प ही शेष बचते हैं, पहला निर्दलीय उतरना और दूसरा चार साल का लम्बा वक्त गुजारें लोकसभा चुनाव के इन्तजार में जो सम्भव नहीं है। फिर कौन जाने कि उस समय क्या परिस्थितियाँ बनती बिगड़ती हैं। नौकरी तो कमल नाथ ने ले ही ली है। जाहिर है कोई भी समझदार व्यक्ति बिना आश्वासन इतना बड़ा कदम नहीं उठायेगा।
लेकिन विश्वास भी कोई बड़ी चीज होती है इसलिए रमेश सिंह कांग्रेस की अन्तिम लिस्ट की प्रतीक्षा करेँगे उसके बाद ही कोई अगला कदम बढ़ायेंगे।
फंडा यह है कि नदी के बहाव की तरह चलना ही श्रेयष्कर होगा, ठहरे तो डूबे! फिर राम की माया राम ही जाने।