महीने में 20 दिन लगेगा एडीजे लिंक कोर्ट, आमला में अपर सत्र न्यायालय को मिली मंजूरी

Scn news india


दिलीप पाल 

आमला। आमला में व्यवहार न्यायालय वर्ग-2 तथा वर्ग-1 तो है, लेकिन अपर सत्र न्यायालय न होने से बड़े ऑपराधिक प्रकरणों की सुनवाई मुलताई में होती थी। जिससे सभी को मुलताई जाना पड़ता था। अधिवक्ताओं को भी मुलताई में ही अपना समय देना पड़ता था। आमलावासी लंबे समय से आमला में अपर शेषन न्यायालय की मांग कर रहे थे। पिछले दो माह से लगातार ज्ञापनों का दौर जारी था। अधिवक्ता संघ विभिन्न सामाजिक संगठन, व्यापारी संगठन, धार्मिक संगठन, तथा समाजसेवियों ने आगे आकर ज्ञापन सौंपे थे।

लगातार दो महिने से ज्ञापन दिये जा रहे थे। प्रमुख जनप्रतिनिधियों का भी इस ओर ध्यान दिलाया गया था। आखिरकार सभी की मेहनत रंग लाई और माननीय उच्च न्यायालय द्वारा आमला तहसील में अपर सत्र न्यायालय को मंजूरी दे दी गई। प्राप्त जानकारी के अनुसार अभी ए.डी.जे. कोर्ट महिने में बीस दिन लगेगा याने कि अपत्र सत्र न्यायालय का लिंक कोर्ट आमला में शुरू होने जा रहा है। अधिवक्ता संघ से प्राप्त जानकारी के अनुसार मुलताई में पदस्थ ऐ.डी.जे. महिने में बीस दिन आमला में भी सुनवाई करेंगे। गौरतलब है कि आमला थाना बोरदेही थाने में बड़ी संख्या में ऑपराधिक प्रकरण दर्ज होते है। धारा 302, 307, 376 जैसी बड़ी धाराओं के प्रकरणों की सुनवाई भी आमला में ही होने लगेगीं।

500 से अधिक मामले होंगे ट्रांसफर

मिली जानकारी के अनुसार आमला में अपत्र सत्र न्यायालय प्रारंभ होने से मुलताई में विचाराधीन 500 से अधिक मामले आमला में ही सुने जाऐंगे। जिससे इन मामलों से जुड़े लोगो को काफी सुविधा होगी। अधिवक्ता संघ ने भी इस स्वीकृति पर खुशी जाहिर की है।

खूब की मेहनत

इस विषय में अधिवक्ता राजेन्द्र उपाध्याय से चर्चा की गई तो उन्होने बताया कि सभी की प्रयासों से आमला को ये उपलब्धि मिली है। लगातार ज्ञापन सौंपकर आमला वासियों ने माननीय उच्च न्यायालय का ध्यान इस ओर दिलवाया गया। वही अधिवक्ता संघ के वेदप्रकाश साहु ने सभी का आभार व्यक्त किया है जिन्होने इसमें प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से सहयोग किया है।