बच्चों को सही दिशा मिले तो राम बन सकते है-विरंजन सागर मुनि विरंजन सागर ने स्कूली विद्यार्थियों को पढ़ाया नैतिकता का पाठ

Scn news india

प्रद्युमन फौजदार
बडामलहरा/यदि बच्चों को सही शिक्षा,सही दिशा और सही संस्कार मिलें तो बच्चे राम बन सकते है और यदि दिशा से भटक जायें तो रावण बनने में देर नहीं लगती यह उद्गार जनसंत मुनि श्री विरंजन सागर महाराज ने बाजना गांव के शासकीय हायर सेकेंडरी स्कूल में विद्यार्थियों को संबोधित करते हुये व्यक्त किये। मुनि विरंजन सागर ने कहा कि बच्चे कुम्हार की गीली मिट्टी के लोंदा की तरह होते है जिस प्रकार कुम्हार मिट्टी के लोंदे को ठोक पीटकर एक आकर्षक घडे़ का निर्माण करता है उसी तरह यदि बच्चों के जीवन में एक अच्छा शिक्षक मिल जाये तो उसे योग्य बना देता है।

उन्होंने कहा कि इस दुनिया में यदि कीमत है तो योग्य और पढे़ लिखे लोगों की बच्चों यदि अच्छ संस्कार और अच्छी शिक्षा मिल जाये तो बच्चे राम बन सकते अन्यथा रावण बनने में देर नहीं लगती। मचनिश्री ने कहा कि एक मां मजदूरी करके छह- छह बच्चों का पालन पोषण कर लेती है मगर छह बच्चे मिलकर अपने माता – पिता का पालन नहीं कर पाते।मुनि श्री ने बच्चों नसीहत देते हुये कहा कि माता -पिता के न केवल आज्ञाकारी पुत्र बनो बल्कि उनके गौरव बनों ताकि उन्हें तुम पर गर्व हो।मुनि श्री ने कहा कि चरणों की पूजा नहीं होती बल्कि आचरण की पूजा होती है।मुनिश्री ने कहा कि हमेशा ध्यान रखो शिक्षक द्वारा कही बात ग्रहण करो ताकि भविष्य में काम आ सके। इस दौरान बाजना गांव की जैन समाज के अलावा अन्य समुदायों के लोग तथा स्कूल का स्टाफ मौजूद रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

All rights reserved by "scn news india" copyright' -2007 -2019 - (Registerd-MP08D0011464/63122/2019/WEB)
error: Content is protected !!