विद्यार्थियों का भविष्य बनाने वाले शिक्षकों का भविष्य उन्हें अंधकारमय

Scn news india

जीतेन्द्र पटेल 

शहडोल- शिक्षक दिवस पर हर कोई अपने स्कूल और कालेज के दिनों को जरूर याद करता है और जहां एक ओर विद्यार्थी अपने शिक्षकों से मिलकर या फोन करके उनसे आशीर्वाद करते हैं और शिक्षकों के आशीर्वाद से अपने भविष्य को उज्जवल बनाते हैं वहीं दूसरी ओर विद्यार्थियों का भविष्य बनाने वाले शिक्षकों का भविष्य उन्हें अंधकारमय दिख रहा है । 2 वर्ष पहले सन 2018 में मध्यप्रदेश में सरकारी स्कूलों में स्थायी शिक्षकों की भर्ती निकली थी रिजल्ट आए भी एक वर्ष बीत चुका है लेकिन आज दिनांक तक इनकी भर्ती प्रक्रिया पूरी नहीं हो पाई है ।

इन चयनित शिक्षकों को अब प्राइवेट स्कूल में भी यह कहकर नहीं रखा जा रहा की आपका चयन सरकारी स्कूल में हो गया है और आप बीच सेसन में ही स्कूल छोड़ देंगे इस कारण हम आपको अपॉइंट नहीं कर सकते। शिक्षक भर्ती परीक्षा में उतीर्ण होने के लिए इन अभियार्थयों ने रात दिन एक कर दिया और जिस परीक्षा में एमफिल, पीएचडी किए हुए प्रतिभागी असफल हो गए उसमे मेरिट लिस्ट में इनका नाम आया लेकिन इसके बाद भी इनकी नियुक्ति अब तक न हो पाना अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है।