खण्डर व् जर्जर स्कूल में दी जा रही शिक्षा,बच्चों की जान जोखिम मे 

Scn news india

आदर्श साहू ब्यूरों 

दुनावा -विधानसभा क्षेत्र मुलताई के दुनावा में खण्डर व् जर्जर  पू.मा.विधालय  में नन्हे बच्चों को पढ़ाया जा रहा है वो भी तब जब कोविड -19 कोरोना संक्रमण काल में शासन द्वारा अभी स्कूलों के खोले जाने के कोई आदेश नहीं हुए। दूसरा जिस विद्यालय में बच्चे पढ़ रहे है। वह जर्जर हो चुका है। दीवारों में दरारें आ चुकी है ,छतों में क्रेक होने  से पानी का रिसाव हो रहा है। ऐसे में कभी भी बड़ा हादसा हो सकता है। जब इस विषय में शाला में शिक्षिका से पूछा गया तो पहले बताया की मोहल्ला क्लास है ,

जब स्कुल में बैठे बच्चों का वीडियों दिखाया जिसमे 2 महीनों की बारिश मे खण्डर मे तब्दील हो गये शाला भवन में जहाँ  सफाई व् मरम्मत करवाये बिना ही छोटे छोटे बच्चों फर्श  पर बैठाकर पढ़ाया जा रहा था  , तो वह झेंप गई और बताया कि बच्चे घूमने आये थे इस लिये पढ़ाने बैठा लिया।

शिक्षिका की शिक्षा के प्रति ईमानदारी बेशक तारीफ़ के काबिल है। लेकिन कोरोना कॉल में बच्चों की सेहत के प्रति जवाबदेही भी जरुरी है। साथ ही शासन के निर्देशों के बाद ही स्कूलों का संचालन किया जाना चाहिए।

प्रशासन को इस खण्डरनुमा व् जर्जर बिल्डिंग की ओर भी ध्यान देना होगा। अन्यथा भविष्य में कोई अनहोनी घटना होने से इंकार नहीं किया जा सकता।

इनका कहना
पहले कहा, मोहल्ला क्लास लगी है।
हमारे रिपोर्टर द्वारा फ़ोटो वीडियो दिखाने के बाद बच्चे घूमने आये थे इस लिये पढ़ाने बैठा लिया। नीतू उइके प्रभारी पू.मा.विद्यालय दुनावा