जन प्रतिनिधि की उपेक्षा व  किसानों की समस्यायों को लेकर किसान कांग्रेस ने सौंपा ज्ञापन

Scn news india

नवील वर्मा 

शाहपुर – विगत दिनों मुलताई के थाने के उद्घाटन समारोह में पुलिस प्रशासन द्वारा पूर्व मंत्री सुखदेव पांसे को आमंत्रित नहीं किया गया जिससे नाराज कांग्रेसियों ने आपत्ति दर्ज कराते हुए एवं किसानों की समस्यायों को लेकर किसान कांग्रेस उपाध्यक्ष कमल किशोर परसाई , अंबिका प्रसाद मिश्रा के नेतृत्व में तहसील आधा सैकड़ा से अधिक महिला एवं पुरूषों ने तहसील कार्यालय पहुंचकर अनुविभागीय अधिकारी राधेश्याम .बघेल को राज्यपाल व वन मंत्री के नाम ज्ञापन सौंपकर कार्यवाही की मांग की जिसमें मुख्य रूप से विगत दिनों तहसील कार्यालय मुलताई में पुलिस प्रशासन द्वारा नवीन थाना भवन का भूमि पूजन किया गया कार्यक्रम में शासन के नियमानुसार विधानसभा क्षेत्र के विधायक पूर्व कैबिनेट मंत्री सुखदेव पांसे जी को उक्त कार्यक्रम में आमंत्रित करना था जो कि नहीं किया गया उक्त क्षेत्र के विधायक होने के कारण शिलालेख पर उनका नाम अंकित किया जाना था वह भी नहीं किया गया जोकि संवैधानिक मूल्यों का स्पष्ट उल्लंघन है तथा चुने हुए जनप्रतिनिधि का एवं संपूर्ण क्षेत्र की जनता का घोर अपमान है जिसको लेकर दोषियों पर कांग्रेसियों द्वारा कार्रवाई की मांग की गई।

वही दूसरी समस्या तेंदूपत्ता सहकारी समिति धार के अंतर्गत आने वाले रायपुर पहाड़ी इत्यादि ग्रामों के तेंदूपत्ता बोनस की राशि विगत 3 वर्षों से किसानों को नहीं दी गई ग्रामीणों की खून पसीने की कमाई की राशि के लिए दर दर भटकना पड़ रहा है जबकि सभी क्षेत्रों में तेंदूपत्ता बोनस वितरण हो चुका है सिर्फ धार समिति द्वारा आज तक बोनस वितरण नहीं किया गया है।

वही मौसम व् अति वर्षा के कारण क्षेत्र के किसानों की मक्का सोयाबीन सहित इत्यादि फसलें भारी मात्रा में क्षतिग्रस्त हुई है जिससे किसानों के सामने आर्थिक स्थिति चरमराने की स्थिति पैदा हो गई है किसानों ने सरकार से शीघ्र अतिवृष्टि से खराब हुई फसलों का शीघ्र सर्वे कराकर मुआवजा राशि दिलाने की मांग की है ज्ञापन सौंपने वालों में पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ के जिला उपाध्यक्ष कन्हैया वर्मा, पूर्व ब्लाक अध्यक्ष विष्णु शैलू रमेश वर्मा, संतोष शर्मा, धनश्याम चौरे,शिवपाल, भागचंद वर्मा,आयुश शुक्ला, बसंत वर्मा, मनसुखदास, भैयालाल, अजयकांत टेकाम,शिवरी बाई, ऊर्मिला टेकाम, बिंदिया मर्सकोले,कमला,सरोज ऊईके इत्यादि प्रमुख रूप से शामिल रहे।