सत्ताधारी विधायक के विधान सभा क्षेत्र में स्थाई अधिकारीयो का टोटा

Scn news india

सत्ताधारी विधायक के विधान सभा क्षेत्र में स्थाई अधिकारीयो का टोटा

प्रभारियों के भरोसे चल रहे आमला मुख्यालय  के कार्यालय 

प्रभारी डॉक्टर के भरोसे गम्भीर मरीजो का नही हो रहा उपचा

दिलीप पाल 

आमला. ब्लाक मुख्यालय में संचलित विभिन्न कार्यालयों में प्रभारी अधिकारियो के भरोसे विभाग संचलित किया जा रहा है सत्ताधारी विधायक की विधान सभा क्षेत्र में स्थाई अधिकारियों का टोटा बना हुआ है प्रभारियों के भरोसे कार्यलयों में कार्य सही ढंग से नही किए जा रहे है क्यों कि प्रभारी अधिकारी का कार्यलय में समझस ही नही होना भी इसका प्रमुख कारण है लेकिन भाजपा की सरकार के चलते सत्ताधारी विधायक होने के बाद भी ब्लाक के जनपद पंचायत आमला नगर पालिका परिषद आमला सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र आमला वरिष्ठ उद्यान विभाग आमला तहसील कार्यालय कार्यलयों में प्रभारी अधिकारी के भरोसे मध्यप्रदेश शासन की जनकल्याणकारी योजनाओं को संचालित किया जा रहा है लेकिन पात्र हितग्राहियों को उसका लाभ नहीं मिल पा रहा है क्योंकि प्रभारी अधिकारी का विभाग में और विभाग के कर्मचारियों के बीच सामंजस नहीं होने के कारण हितग्राहियों को योजनाओं का लाभ नहीं मिल रहा है

नगर पालिका कार्यलय बाबू के भरोसे

नगर में नगर सरकार मतलब नपा अध्यक्ष का कार्यकाल समाप्त होने के बाद प्रशासक ओर नपा अधिकारी के भरोसे कार्यलय संचालित किया जा रहा है लेकिन प्रशासक भी फिलहाल छुट्टी पर है ऐसे में बाबू के भरोसे नगर पालिका के दफ्तर में आम लोगो के कार्य एव योजनाओ का लाभ हितग्राहियों को नही मिल पा रही है नगर के विजेंद्र कैथवास, गोपाल कुशवाहा, अंकित ठाकुर, प्रेमलाल जशवाल ने कहा कि नगर पालिका में समय पर योजनाओ का लाभ नही मिल रहा है इस कार्य के लिए सप्ताह भर नपा के चक्कर लगाने पड़ रहे है नपा के कर्मचारी भी आम लोगो से सीधे बात तक नही करते है आम लोगो के कार्य समय पर हो इसके लिए मुख्य नगर पालिका अधिकारी को जल्द से जल्द पदस्थ किया जाए।

सरकारी अस्पताल में गम्भीर मरीजो का नही हो रहा उपचार

नगर के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मैं भी प्रभारी डॉक्टर के भरोसे ही गंभीर मरीजों का उपचार किया जा रहा है लेकिन अधिकतर देखा गया है कि गंभीर मरीजों को जिला अस्पताल रेफर कर दिया जा रहा है प्रभारी डॉ के भरोसे ब्लॉक के सरकारी अस्पताल मैं स्वास्थ्य सुविधाएं लोगों को नहीं मिल पा रही हैं कोरोना के चलते वैसे ही लोगों में भयावह बीमारी का डर बना हुआ है इसके बाद भी शासन प्रशासन का ध्यान इस ओर ना होना भी चिंता का विषय बना हुआ है ग्रामीण क्षेत्र से आए मरीज भी झोलाछाप डॉक्टरों से इलाज कराने को मजबूर है देवा बाई उइके, सुखकल धुर्वे, दशरत इवने ने बताया कि सरकारी अस्पताल में गरीबो का उपचार नही किया जाता है हम सुबह से इलाज कराने आए है लेकिन यहां ना तो कोई नर्स मिली है और ना ही कोई डॉक्टर आया है आपातकालीन व्यवस्था के तहत एक डॉक्टर अस्पताल में होना चाहिए लेकिन यहां सुबह के समय कोई डॉक्टर भी नही था ऐसे में मजबूरी में निजी डाक्टरो से इलाज करना पड़ता है ग्रामीणों ने स्थाई डॉक्टर को पदस्थ किए जाने की मांग जिला कलेक्टर से की है

इनका कहना है……

मुख्यमंत्री जी से चर्चा कर जल्द ही ब्लाक मुख्यलय में स्थाई अधिकारि पदस्थ कराया जायेगा जनपद पंचायत आमला ओर नगर पालिका आमला के स्थाई अधिकारी एक सप्ताह में पदस्थ किए जाएंगे।

योगेश पण्डाग्रे विधायक आमला