एक करोड़ 75 लाख की लागत से पीआईयू विभाग द्वारा कराया जा रहा निर्माण

एक करोड़ 75 लाख की लागत से पीआईयू विभाग द्वारा कराया जा रहा निर्माण

Scn news india

दिलीप पाल
आमला. ग्राम खेड़ली बाजार में पीआईयू विभाग द्वारा एक करोड़ 75 लाख की लागत से शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय भवन का निर्माण ठेकेदार के माध्यम से कराया जा रहा है। यह निर्माण कार्य पिछले एक वर्ष से अधिक समय से चल रहा है जिसमें भारी अनियमितताएं बरती जा रही है। निर्माण कार्य में जंग लगा हुआ सरिया,गुणवत्ताहीन सीमेंट गुणवत्ताहीन रेत आदि का उपयोग किया जा रहा है जिससे ग्रामवासी काफी नाराज है और यह नाराजगी आज ग्राम खेड़ली बाजार के युवाओं में देखी गई। ग्राम खेड़ली बाजार के लगभग 1 दर्जन से अधिक युवा आज निर्माणाधीन स्कूल भवन का कार्य देखने पहुंचे जहां पर उन्होंने निर्माण कार्य में काफी अनियमितताएं पाई तथा शासन से यह मांग की है कि इस स्कूल भवन निर्माण कार्य के ठेकेदार का लाइसेंस रद्द कर नया ठेकेदार को स्कूल भवन का निर्माण का ठेका देना चाहिए।


ग्राम खेड़ली बाजार के योगेश रघुवंशी, विनायक साबले का कहना है कि स्कूल भवन निर्माण को लेकर पिछले कई दिनों से ठेकेदार की कार्यप्रणाली पर उंगली उठ रही है।ठेकेदार की कार्यप्रणाली को लेकर विगत दिनों सरपंच ग्राम खेड़ली बाजार ने मौखिक रूप से ठेकेदार को स्कूल भवन निर्माण के कार्य में गुणवत्ता लाने तथा लापरवाही नहीं बरतने हेतु कहा था किंतु ठेकेदार अपनी मनमानी करते हुए बिना किसी डर के लापरवाही पूर्वक स्कूल भवन का निर्माण गुणवत्ताहीन तरीके से कर रहा है जिसमें लगने वाले किसी भी मटेरियल की गुणवत्ता नहीं है रेट गिट्टी ईट सरिया एवं अन्य सामग्री क्यों का उपयोग गुणवत्ता अनुसार नहीं हो रहा।
गांव के युवा महेश डांगे, राहुल साहू,ने बताया कि स्कूल भवन निर्माण कार्य मे सरिया जंग लगी कोई उपयोग की जा रही है एवं सरीये की गुणवत्ता का मानक मापदंड भी नहीं माना जा रहा। वर्तमान में कई जगह से भवन की छत से पानी टपक रहा है,उपयोग में लाई जाने वाली ईटें इतनी कमजोर है कि बारिश में घुलने लगी है भवन निर्माण में निर्माण के लिए पीआईयू विभाग के उचित मापदंडों को भी नहीं अपनाया जा रहा। जिससे भवन काफी कमजोर स्थिति में रहेगा।
अभिभावक राजेश सोनी का आरोप है कि निर्माण कार्य मे लगाई जा रही निर्माण सामग्री घटिया स्तर की इस्तेमाल की जा रही है वही निर्माण कार्य स्थल पर आधारशिला का सूचना पटल भी नहीं लगाया गया। इससे अंदाजा लगया जा सकता है किस प्रकार का निर्माण कार्य किया जा रहा है। स्कूल भवन निर्माण कार्य में फ्लोरिंग करने हेतु रेत की जगह अन्य सामग्रियों का उपयोग किया जा रहा है एवं गुणवत्ताहीन कोटा का उपयोग कर लगाया जा रहा है। ठेकेदार की अपनी मनमानी चल रही है जिसमें पूरे भवन निर्माण कार्य में जगह जगह मानक मापदंडों की कमी दिख रही है।
अधिवक्ता नवीन बिहारिया का कहना है कि विगत एक वर्ष से अधिक समय हो जाने पर भी बिल्डिंग का काम आधा अधूरा ही लटका पड़ा है बार-बार ठेकेदार अपना कार्य रोक देते हैं। वर्तमान स्कूल भवन निर्माण कार्य बंद है जब वहां ग्रामीण पहुंचे उस दौरान वहां कोई चौकीदार भी नहीं मिला। स्कूल भवन का कार्य भगवान भरोसे ही चल रहा है ग्रामीणों ने मांग की है कि स्कूल भवन निर्माण ठेकेदार पर गुणवत्ता हीन कार्य करने के लिए जुर्माना लगाया जाना चाहिए ताकि भवन निर्माण अच्छे से हो। शासन द्वारा करोड़ों खर्च करके बच्चों की सुविधा हेतु स्कूल भवन निर्माण कराया जाना सुनिश्चित किया था किंतु ऐसे लापरवाही एवं घटिया स्तर की सामग्री लगाकर बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ करना उचित नहीं है। क्या कारण है कि पीआईयू विभाग चुप्पी साधे बैठा है।
उल्लेखनीय है कि पीआईयू विभाग द्वारा ठेकेदार के माध्यम से करोड़ों की लागत में स्कूल भवन का निर्माण कराया जा रहा है खेड़लीबाजार के ग्रामीण युवाओं द्वारा इस कार्य में लापरवाही एवं घटिया स्तर की सामग्री का आरोप लगाया जा रहा है जिसकी जांच होना आवश्यक हो गया है।ग्रामीणों का आरोप है कि ना तो ठेकेदार समय पर उपलब्ध होता है ना ही कोई इंजीनियर इसका वैल्यूएशन करने आता है सब अपना अपना हिस्सा लेकर घर बैठे ही मूल्यांकन कर देते हैं।ग्राम के युवाओं ने आरोप लगाया है कि पीआईयू विभाग ठेकेदार से सांठगांठ करके इस लापरवाही की ओर कोई ध्यान नहीं दे रहा है।ग्रामीणों का कहना है कि जल्द ही ठेकेदार पर कार्रवाई नहीं होती है तो इसके लिए वे आंदोलन करने पर बाध्य होंगे।

इनका कहना है…

खेड़लीबाजार में स्कूल भवन निर्माण की शिकायत ग्रामवासीयों द्वारा की गई है।इस संबंध में उच्च अधिकारियों को पत्र लिखकर अवगत कराया जाएगा एवं ठेकेदार पर उचित कार्रवाई करने हेतु प्रयास किए जाएंगे।

रानी योगेश रघुवंशी
सरपंच ग्राम पंचायत खेड़लीबाजार

बैतूल