परिजन ओर समाज से 14 दिन अलग रहे कर जीत जायँगे जंग पर क्वारन्टीन सेंटर की गंदगी से हो जायँगे बीमार

Scn news india

दिलीप पाल
आमला. कोविड-19 नोवल कोरोना की जंग जितने के लिए ओर वायरस के इलाज के लिए कोई दवा तो नही बनी है लेकिन शासन द्वारा कोरोना के मरीजो के ईलाज लिए सन्दिग्ध मरीज ओर पॉजिटिव मरीजो के 14 दिन परिवार और सामाजिक दूरी रखकर ईलाज किया जा रहा है जिसे लोग ठीक भी हो रहे है लेकिन क्वारन्टीन सेंटर में फैली गंदगी से मरीज बीमार भी हो सकते है क्यों कि क्वारन्टीन सेंटर में शौचालय ओर स्नान गृह की हालत देखने के बाद लगता है कि मरीज पसरी गन्दगी से ही बीमार हो जायँगे।

जानकारी के अनुसार शासकीय कन्या छात्रवास आमला में जो सन्दिग्ध मरीजो के लिए जो क्वारन्टीन सेंटर बनाया गया है वहा शौचालय ओर स्नान ग्रह में फैली गंदगी से मरीज बहुत परेशान है मरीज अपने आपको असुरक्षित समझ रहे है मरीजो का मानना है कि यहां रहकर तो शायद कोरोना की जंग जीत पाएंगे या नही लेकिन फैली गंदगी के कारण कोई अन्य बीमारी की चपेट में आ सकते है।

मरीजो ने बताया कि इस कदर शोचलाय में गन्दगी फैली है कि शौच करना बहुत ही मुश्किल है लेकिन क्या करे मजबूरी में जाना पड़ रहा है मरीजो अन्य बीमारी होने का डर सता रहा है कही ऐसा ना हो जाए कोरोना तो ठीक हो जाए और कोई अन्य बीमारी के चलते उनकी तबियत ओर भी बिगड़ जाए मरीजो ने अन्य किसी दूसरे स्थान पर उनको शिफ्ट करने की मांग की है।