पन्ना टाइगर रिजर्व में फिर नर बाघ की संदिग्ध मौत

Scn news india

पन्ना से विकास सेन की रिपोर्ट

पन्ना टाइगर रिजर्व में इनदिनों संकट के बादल छाये है संदिग्ध परिस्थितियों में बाघों की मौत का सिलसिला रुकने का नाम नहीं ले रहा है । आज फिर हिनौता रेंज के जंगल बीट में एक नर बाघ की सड़ी गली लाश मिली जिससे हड़कंप मच गया है । लगातार हो रही बाघों की मौतों के कारण प्रबंधन में जहां प्रश्नचिन्ह उठ रहे हैं वहीं राष्ट्रीय पशु बाघ की सड़ी गली अवस्था में लाश मिली है ।

आज टाइगर पी 123 की लाश केन नदी के किनारे पानी में तैरती मिलने से हड़कंप मच गया है ।
पन्ना टाईगर रिर्जव प्रबंधन द्वारा फिर एक नई कहानी रची गई । बताया जा रहा है इसकी मेल टाइगर है 432 से लड़ाई हुई थी खोजने के बाद नदी के पानी में शव मिला है शव को को मगर और जानवरों ने नोच लिया है फील्ड डायरेक्टर के.एस.भदौरिया ने बताया कि 7 अगस्त के दिन 2 मेल टाइगरो में मेटिंग को लेकर लड़ाई हुई थी । जिसमें युवा बाघ पी 123 घायल हो गया था पर सबसे बड़ा प्रश्न यह है कि जब प्रबंधन को यह पता था कि टाइगर घायल है तो नदी में कैसे डूब कर मर गया और 3 दिन बाद कैसे लाश मिली ।

ज्ञात हो कि 2009 में पन्ना टाइगर रिजर्व बाघ व्हीन हो गया था । इसके बाद बाहर से टाइगर लाकर यहां बताए गए अब इनकी संख्या 60 से अधिक हो गई थी लेकिन बीते कुछ महीनों से लगातार टाइगर कि मौतें हो रही हैं ।
और इनकी क्षत-विक्षत लाशें हफ्ते 15 दिनो मे मिल रही हैं ।
8 माहीने के अंदर यह पांचवी टाइगर की मौत हो गई । इनकी निगरानी मे लगा वन अमला क्या कर रहा था । चारो ओर 24 घंटे निगरानी होती रही । ड्रोन कैमरा, टिरेकिंग कैमरों, हाँथीयो, और टाईगर लोकेशन पार्टियां क्या कर रही थी । ऐसे अनेकों सवाल है प्रबंधन पर सरकार जबतक ऐसे नकारा अधिकारी, कर्मचारियों को नही हटायेगी । वहदिन दूर नही पन्ना से फिर बाघों का अस्तित्व समाप्त हो जायेगा ।