78 वे अंग्रेजो “भारत छोड़ो आंदोलन” के दिन स्वदेशी जागरण मंच के आह्वान पर “चीनी कंपनी भारत छोड़ो”

Scn news india

मनीष मालवीय 

होशंगाबाद // विगत 9 अगस्त को 78 वे अंग्रेजो “भारत छोड़ो आंदोलन” के दिन स्वदेशी जागरण मंच के आह्वान पर “चीनी कंपनी भारत छोड़ो” अभियान किया जाना संभावित था, किंतु रविवार के दिन टोटल लाक डाउन की वजह से इसे आज दिनांक 10 अगस्त को किया गया, चीनी कोरोना वायरस की वजह से फैली वैश्विक महामारी के दृष्टिगत इसे सांकेतिक तौर पर आयोजित किया गया, साथ ही मास्क एवं सोशियल डिस्टेंस का पूरा ध्यान रखा गया, स्वदेशी जागरण मंच के जिला संयोजक विशाल गोलानी ने बताया वैश्विक महामारी चीनी कोरोना वायरस की वजह से आज सम्पूर्ण विश्व के साथ भारत की अर्थव्यवस्था पर भी बुरा प्रभाव पड़ा है और अर्थव्यवस्था पटरी पर लाने का उपाय है स्वदेशी वस्तुओं का उपयोग करना, चीनी एवं विदेशी वस्तुओं का बहिष्कार कर हमें लोकल में बनने वाली चीज़ों के लिए वोकल होना पड़ेगा, आयात जब कम होगा तब स्वतः ही हमारा देश मजबूत हो जाएगा, देश को आत्मनिर्भर बनाने के लिए स्वदेशी जागरण मंच द्वारा स्वावलंबन अभियान भी चलाया जा रहा है, विशाल गोलानी ने आगे कहा कि जिस तरह पूरा भारतवर्ष एकजुट होकर अंग्रेजो भारत छोड़ो आंदोलन का हिस्सा बना था अब फिर से वही समय आ गया है जब समस्त भारतीयों को एक स्वरबद्ध होकर चीनी सामान का और चीनी एप्स का बहिष्कार करना चाहिए, विभिन्न भारतीय कंपनियों, स्टार्टअप और डिजिटल एप में चीनी निवेश चिंताजनक है, विभिन्न सरकारी परियोजनाओं एवं संवेदनशील निर्माण कार्यों से चीनी कंपनियों को तुरंत बाहर करना चाहिए,


भारत मे चीन की बढ़ती उपस्तिथि तथा चीनी सामान के बढ़ते आयात पर रोक लगनी चाहिए, साथ ही बीसीसीआई को आईपीएल से वीवो की स्पॉन्सरशिप समाप्त कर किसी भारतीय कंपनी से स्पॉन्सरशिप लेनी चाहिए, अंत मे जिला संयोजक विशाल गोलानी ने स्पष्ट कहा कि चीनी कंपनियो भारत छोड़ो अभियान की शुरुआत अवश्य सांकेतिक की गई है किंतु कोई बदलाव न आया तो चीनी कंपनियों के विरुद्ध बड़ा आंदोलन करेंगे,
इस अभियान में स्वदेशी जागरण मंच के वरिष्ठ सदस्य ठाकुर अरविंद सिंह पटेल एवं टोनी दोहरे के साथ निखिल श्रीवास,धनसिंह सराठे, हेमंत सराठे,संजय दुबे,गोलु राजपूत,नीलेश विश्वकर्मा,रोहित कुशवाहा, रितिक ठाकुर,संदीप कुशवाह आदि उपस्तिथ थे।