बाणसागर बहुती भूमिगत नहर निर्माण का किया निरीक्षण पूर्व मंत्री राजेन्द्र शुक्ला ने

Scn news india

कामता तिवारी
ब्यूरो सतना
Scn news india

रीवा- बाणसागर बहुउद्देशीय सिचाई परियोजना रीवा जिले में ही नहीं पूरे विंध्य क्षेत्र के लिए वरदान साबित हुई है। इससे रीवा संभाग के सभी जिलों में खेती को उन्नत बनाने तथा फसलों का उत्पादन बढ़ाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। बाणसागर से सिचाई के विस्तार के लिए बहुती भूमिगत नहर का निर्माण किया जा रहा है। इसका निर्माण पूरा हो जाने पर रीवा जिले के नईगढ़ी तथा मऊगंज क्षेत्रों में 2 लाख 90 हजार एकड़ क्षेत्र में सिचाई की सुविधा मिलेगी। पूर्व मंत्री एवं विधायक रीवा राजेन्द्र शुक्ल ने अधिकारियों के साथ बहुती भूमिगत नहर निर्माण का बाणसागर बाध स्थल में निरीक्षण किया। इसके पहले उन्होंने देवलौद रेस्ट हाउस में आयोजित बैठक में नहर निर्माण की प्रगति की समीक्षा की।


बैठक में पूर्व मंत्री शुक्ल ने कहा कि बाणसागर बाध की नहरों का लाभ रीवा जिले के अधिकांश क्षेत्रों को मिल रहा है। जिले का नईगढ़ी तथा मऊगंज क्षेत्र के किसानों को बाणसागर के पानी का पूरा लाभ अब तक नहीं मिला था। इस कमी को दूर करने के लिए बहुती भूमिगत नहर का निर्माण किया जा रहा है। इससे मऊगंज तथा नईगढ़ी क्षेत्र के 2 लाख 90 हजार एकड़ क्षेत्र में सिचाई की सुविधा मिलेगी। सिचाई की सुविधा मिलने से किसानों की तकदीर बदल जायेगी। खेती को उन्नत बनाने तथा स्थानीय स्तर पर रोजगार सृजन के अवसर मिलेगे। खेती के विकास से ग्रामीण अर्थ व्यवस्था को गति मिलेगी साथ ही व्यापार को भी बढ़ावा मिलेगा। बहुती भूमिगत नहर किसानों के लिए वरदान सावित होगी।
बैठक में पूर्व मंत्री ने कहा कि नहर का निर्माण निर्धारित समय सीमा में पूरा करायें। जिससे आगामी फसल के लिए किसानों को सिचाई की सुविधा मिल सके। नहर निर्माण की सभी बाधायें दूर की जायेगी। नहर का निर्माण वर्ष 2021 तक पूरा करने के प्रयास करें। मुख्य नहर के निर्माण के साथ-साथ किसानों के खेतों तक पानी पहुंचाने के लिए सहायक नहरों का भी काम समय सीमा में पूरा करायें। बैठक में गंगाकछार के मुख्य अभियंता ए.के. जैन ने बहुती भूमिगत नहर निर्माण के कार्यों की प्रगति की बिन्दुवार जानकारी दी। बैठक में विधायक व्यौहारी जिला शहडोल श्री शरद कोल, अधीक्षण यंत्री डी.के. शर्मा, अधीक्षण यंत्री नहर सीएम त्रिपाठी, कार्यपालन यंत्री क्योंटी नहर मनोज तिवारी, कार्यपालन यंत्री हरीश तिवारी तथा कार्यपालन यंत्री एमएल मिश्रा तथा राजीव तिवारी रहे उपस्थित।