कोरन्टाइन सेंटर पर नही है व्यवस्था नीचे फर्स पर दिन गुजार रहे मरीज

Scn news india

दिलीप पाल ब्यूरो 

आमला।। शहर के बालक छात्रवास को प्रशासन द्वारा कोरन्टाइन सेंटर बनाया गया है जहाँ संदिग्ध मरीजो के साथ ही कोरोना पॉजिटिव मरीजो को कोरन्टाइन किया जाता है लेकिन यहाँ व्यवस्था के नाम पर कुछ भी दिखाई नही पड़ रहा है यहाँ ना भोजन की व्यवस्था है और न ही पेयजल की व्यवस्था है मरीजो को बेड भी उपलब्ध नही कराए गए है।

एक ओर प्रदेश के मुखिया गंभीर महामारी से ग्रसित होने के बाद प्राइवेट अस्पताल में सारीसुविधा के साथ इलाज करवा रहे है तो वही दूसरी ओर प्रदेश की जनता महामारी के दौर में सुविधाओं के लिए तरस रहे है बताया जाता है कि मरीजो को न ही बेड की व्यवस्था है और न ही भोजन की सही व्यवस्था कोरन्टाइन सेंटर में शोसल डिस्टेंसिंग का भी पालन नही किया जा रहा है जबकि नियमानुसार कोरन्टाइन सेंटर में दूरी आवश्यक है डेढ़ से दो मीटर की दूरी पर मरीजो को रखना है लेकिन यहाँ सभी मरीज आपस मे सम्पर्क में ही है।

नीचे फर्स पर दिन गुजार रहे है कोरन्टीन किए गए मरीज

कोरन्टीन सेंटर में रखे गए मरीजो को बारिश में ठंड में नीचे फर्स पर दिन गुजरना पड़ रहा है जबकि कोरन्टीन मरीजो को तो बेड की व्यवस्था करानी चाहिए थी लेकिन स्वास्थ्य विभाग द्वारा मरीजो के लिए कोरन्टीन सेंटर में बेड की व्यवस्था नही की गई है आज कोरन्टीन हुए मरीज फर्स पर नीचे लेट कर दिन गुजार रहे है बताया जाता है कि कोरन्टीन मरीज में से कुछ मरीज बीपी ओर सुगर के भी मरीज है लेकिन उनके लिए कोई विशेष उपचार की व्यवस्था नही की गई है बीपी ओर सुगर के मरीजो को भी कोरोना की ही दवा दी जा रही है जबकि बीपी ओर सुगर के मरीजो के लिए अलग से भी उपचार किया जाना चाहिए लेकिन आमला में बनाए गए कोरन्टीन सेंटर में कोई विशेष इंतजाम मरीजो के लिए नही किया गया है ।

कोरन्टीन हुए मरीज ने दूरभाष पर बताई आप बीती

आमला के बालक छात्रावास में कोरन्टीन के गए मरीजो ने दूरभाष पर आप बीती सुनाई है उन्होंने कोरन्टीन सेंटर की व्यवस्था पर सवाल उठाते हुए नामदेव गुजरे ने बताया कि आज शनिवार को मुझे कोरन्टीन सेंटर छात्रवास लाया गया है लेकिन यहां बेड की व्यवस्था नही है फर्स ओर एक चादर बिछाकर दिन गुजरना पड़ रहा है जबकि में बीपी ओर सुगर का मरीज हु बेड भी नही है नीचे जमीन पर ठंडे फर्स पर रहना पड़ रहा है जबकि शासन द्वारा कोरन्टीन सेंटर में मरीजो के लिए अलग से सुविधा की गई है लेकिन यहां कोई व्यवस्था ही नही की है नामदेव गुजरे ने जिला कलेक्टर से मांग की है कि कोरन्टीन सेंटर में व्यवस्था की जाए बेड बिजली एव नास्ते भोजन की व्यवस्था की जाए ।

इनका कहना है…….

कोरन्टीन सेंटर में सुविधाए सारी है काउच कम थे तो काउच बुलाए गए व्यवस्था करने में समय लगता है व्यवस्था जल्द बनाई जायगी

अशोक नरवरे बीएमओ आमला