कई उपभोक्ताओं ने दिखाई सही रीडिंग तो कर दिए बिल कम , उपभोक्ता बिलो को लेकर हैरान परेशान नही हो रही सुनवाई

Scn news india

दिलीप पाल ब्यूरों 

आमला.लॉकडाउन के साथ ही विद्युत वितरण कंपनी ने मीटर की रीडिंग नहीं ली है। इसके बाद भी लगातार लोगों के पास ज्यादा बिल आ रहे हैं। उपभोक्ता भी बड़े हुए बिलो से खासे परेशान है क्यों कि लॉक डाउन के चलते लोग अपने कामकाज पर जा नही पाए ऊपर से विधुत वितरण कम्पनी द्वारा भारी भरकम बिल उपभोक्ताओं को पकड़ा दिया है।


उपभोक्ताओं लंकेश मोरले ने बताया कि है मीटर में रीडिंग कम बता रही है विधुत वितरण कम्पनी ज्यादा रीडिंग देकर बिल थमा रही है उन्होंने कहा कि इतने बिल किस आधार पर दिए जा रहे हैं। वहीं कई उपभोक्ता जब बड़े हुए बिल की शिकायत लेकर पहुंचे तो विद्युत वितरण कंपनी ने उनके बिल कम नही किए कुछ उपभोक्ताओं को कहा गया कि बीते माह जितनी खपत इस माह में हुई थी उतनी ही खपत के बिल दिए गए हैं, लेकिन उपभोक्ता संतुष्ट नहीं हुए। उपभोक्ताओं का कहना है कि या तो बिल रीडिंग के आधार पर लिए जाएं या फिर बढ़े हुए बिल न लिए जाएं। उपभोक्ताओं को वास्तविक खपत से अधिक आंकलित खपत के बिल थमा रही है। साथ ही उर्जा प्रभार, नियत प्रभार और सुरक्षा निधि भी किश्त के रुप में उपभोक्ताओं सुखराम ढोहलेकर ने बताया कि पिछले चार माह से हम लोग बिल के कारण परेशान हैं, लेकिन न तो काई सुधार हो रहा है न सुनवाई। खपत का बिल भेजने, ज्यादा राशि का बिल आने का प्राथमिक जिम्मेदार मीटर रीडर होता है। रीडिंग नहीं लेने का खामियाजा उपभोक्ता को ज्यादा राशि के रुप में भुगतना पड़ता है। उन्होंने बताया कि अभी वर्तमान में मीटर की रीडिंग 5016 है जबकि विधुत वितरण कम्पनी द्वारा 5511 बिल था दिया है सुखराम ढोलेकर ने इसकी शिकायत विधुत वितरण कम्पनी को कर बिल में सुधार करने की मांग की है।

इनका कहना है…….

अधिक खपत का बिल दिए जाने की शिकायत मिली है लेकिन कटेन्मेंट एरिया होने के कारण उपभोक्ता के यहां के मीटर की रीडिंग नही ली गई है जाच के बाद ही कुछ कहा जा सकता है

राजकुमार नकुल सहायक अभियंता विधुत वितरण शहरी क्षेत्र आमला